Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

ॐ ह्रीं केवलज्ञान कल्याणक प्राप्ताय श्री ऋषभदेव जिनेन्द्राय नमः |

अंकन्यास विधि

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंकन्यास विधि
A particular kind of ritual procedure of writing whole Hindi syllabary with sacred saffron paste on the various body-parts of the idol of Lord Jinendra with a golden-stick especially at the day of Kevalgyan Kalyank (day of attainment of omniscience) in Panchkalyanak Pratishtha. पंचकल्याणक में केवलज्ञान कल्याणक के दिन प्रतिष्ठेय प्रतिमा पर विशेष मंत्र पड़ते हुए प्रतिष्ठाचार्य द्वारा अ से लेकर ह तक अक्षर शरीर के विभिन्न अंको में मंत्रित केशर द्वारा स्वर्ण शलाका से लिखा जाना