Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


प्रतिदिन पारस चैनल पर पू॰ श्री ज्ञानमती माताजी षट्खण्डागम ग्रंथ का सार भक्तों को अपनी सरस एवं सरल वाणी से प्रदान कर रही है|

प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें | 6 मई 2018 से प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक |

अकरणीय

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अकरणीय :

कि तुमंधो सि किन्वा सि धत्तूरिओ।

अहव कि सन्निवाएण आऊरिओ।।
अमयसमधम्म जं विस व अवमन्नसे।
विसयविस विसम अमियं व बहु मन्नसे।।

—इन्द्रियपराजयशतक : ७४

हे मनुष्य ! क्या तू अंधा बन गया है ? या क्या तूने धतूरा—पान किया है ? अथवा क्या तू सन्निपात रोग से पागल बन गया है ? जिससे कि अमृत समान धर्म को तू विषवत् तिरस्कृत करता है और भवोभव में परिभ्रमण कराने वाले विषयरूपी विष को अमृत के समान पी रहा है।