ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अखरोट: एंटी आक्सीडेंट्स से भरपूर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
अखरोट: एंटी आक्सीडेंट्स से भरपूर

25 09 2013-25sep13f1.jpg
Ewhit.jpg
Ewhit.jpg

अखरोट में कैल्शियम की प्रचुरता होती है। गठिया या जोड़ों के दर्द में अखरोट का सेवन अत्यन्त लाभदायक है। रजोनिवृत्ति के पश्चात् महिलाओं को प्रतिदिन अखरोट का सेवन करना चाहिए।

यदि खांसी की शिकायत हो तो अखरोट को घी में भूनकर सेवन करने से लाभ होता है। सर्दियों में अखरोट का सेवन काफी लाभप्रद होता है। यह दिमाग को चुस्त दुरुस्त रखता है। शक्तिवद्र्धक होता है तथा बल और वीर्य की मात्रा बढ़ाता है। यह दिमाग को शांत रखता है। फलस्वरूप नींद भी अच्छी आती है।

यदि गले में तकलीफ हो तो कच्चे अखरोट के काढ़े से गरारे करने से लाभ होता है। अखरोट का सेवन वायु और पित्त को शांत करता है। मूत्र संबंधी रोगों के लिए भी अखरोट का सेवन लाभदायक है। अखरोट के सेवन से स्तनपान कराने वाली माताओं में दूध की मात्रा बढ़ती है। अखरोट का तेल भी बड़े काम की चीज है। इससे पेट के कीड़ों का नाश होता है। यदि कब्ज की शिकायत हो तो दूध में अखरोट का तेल मिलाकर लेने से वह दूर हो जाता है। यदि कुत्ता काट ले तो प्रभावित भाग पर दो चम्मच अखरोट के तेल में एक कप गर्म पानी मिलाकर दिन में तीन बार पीना चाहिए। मुँह के लकवे में इसके तेल की मालिश लाभदायक रहती है। अखरोट का छिलका न केवल उदर कृमियों का नाश करता है। अपितु कब्ज भी दूर करता है।

अखरोट की छाल का काढ़ा कृमिनाशक होता है। अत: जिन्हें पेट के कीड़ों की शिकायत हो, उन्हें इसका सेवन करना चाहिए। अखरोट के पत्ते भी कृमिनाशक होते हैं।

संकलन कर्ता : हरिकृष्ण निगम
हिन्दू विश्व, पत्रिका
अक्टूबर, २०१४