Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


खुशखबरी ! पू० श्रीज्ञानमती माताजी ससंघ कतारगाँव में भगवान आदिनाथ मंदिर के प्रांंगण में विराजमान हैं|

अतिचार कितने हैं .?

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अतिचार कितने हैं ?

तत्त्वार्थ सूत्र की सातवीं अध्याय में सम्यक्त्व के पाँच अतिचार, बारह व्रतों के पाँच-पाँच अतिचार तथा सल्लेखना के पाँच अतिचार ऐसे ५±१२²५±५·७० अतिचार होते हैं। इन अतिचारों का प्रकरण वहीं से देख लेना चाहिए।