ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माता जी के द्वारा अागमोक्त मंगल प्रवचन एवं मुंबई चातुर्मास में हो रहे विविध कार्यक्रम के दृश्य प्रतिदिन देखे - पारस चैनल पर प्रातः 6 बजे से 7 बजे (सीधा प्रसारण)एवं रात्रि 9 से 9:20 बजे तक|

अतिचार कितने हैं .?

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अतिचार कितने हैं ?

तत्त्वार्थ सूत्र की सातवीं अध्याय में सम्यक्त्व के पाँच अतिचार, बारह व्रतों के पाँच-पाँच अतिचार तथा सल्लेखना के पाँच अतिचार ऐसे ५±१२²५±५·७० अतिचार होते हैं। इन अतिचारों का प्रकरण वहीं से देख लेना चाहिए।