ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अथ बिम्बनिर्माणविधिः

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
अथ बिम्बनिर्माणविधिः

Gdfhdfgdf.jpg
Gdfhdfgdf.jpg
Gdfhdfgdf.jpg
Gdfhdfgdf.jpg
Gdfhdfgdf.jpg
Gdfhdfgdf.jpg
Gdfhdfgdf.jpg
Gdfhdfgdf.jpg

अब बिम्बनिर्माण की विधि कहते हैं -

संस्थानसुंदरमनोहररूपमूध्र्वप्रालंबितं ह्यवसनं कमलासनं च।

नान्यासनेन परिकल्पितमीशविंबमर्हाविधौ प्रथितमार्यमतिप्रपन्नैः।।१५१।।
वृद्धत्वबाल्यरहितांगमुपेतशांतिं श्रीवृक्षभूषिह्य्दयं नखकेशहीनं।
सद्धातुचित्रदृषदां समसूत्रभागं वैराग्यभूषितगुणं तपसि प्रशक्तं।।१५२।।

संस्थान अर्थात् आंगोपांग सुन्दर हों, कांति और लावण्य से सहित मनोहर कायोत्सर्ग मुद्राधारी दिगम्बर तथा पद्मासन, ये दो ही आसन दिगम्बर जैन प्रतिमाओं में बनाने योग्य हैं,अन्य कुक्कुटादि आसनों से सहित जिनबिम्ब दिगम्बर जैनागम के अनुसार मान्य नहीं है। प्रतिमा में वृद्धावस्था और बाल्यावस्था की झलक भी नहीं होना चाहिए। शान्त भाव की झलक तथा वैराग्य भाव को प्रदर्शित करने वाला एवं तप अवस्था से सहित मुखमण्डल होना चाहिए। प्रतिमा में ह्य्दय स्थान पर श्रीवत्स का चिन्ह, नख और केश से रहित, अनेक प्रकार के पाषाण द्वारा निर्मित समचतुरस्र संस्थानयुक्त जिनबिम्ब प्रशस्त माना जाता है।

ऊध्र्वे द्विपाभ्रविधुभागकुतौ स्वकीय-

मानेन तत्र मुखमंडलमक्षिसोमं।
ग्रीवाह्य्दौ च चतुरक्षिमितौ ह्य्दानु-
प्रेक्षाप्रमं जठरमत्र तु नाभिमूलात् ।।१५३।।
तावत्प्रमैव मदनादि तदादि .........(भातु)
जानुद्वयं करमितं च ततोऽपि गुल्पं।
तस्माच्च पादतलमत्र हि गुल्फदेशात्
पिंडिर्दृढा तु पदयोः शुभलक्षणांका।।१५४।।

ऊँचाई में कायोत्सर्ग प्रतिमा में द्विप कहने से आठ, अभ्र कहने से शून्य, विधु कहने से एक अर्थात् १०८ भाग प्रमाण जिनबिम्ब हो , मुखमण्डल गोलाकार बारह भाग प्रमाण हो, ग्रीवा और ह्य्दय २४ भाग हों, ह्य्दय से जठर तक १२ भाग नाभिपर्यंत होवे, उतने ही प्रमाण १२ भाग ही नाभि से लिंग पर्यंत उससे गोड़े पर्यन्त (घुटने) एक हाथ मात्र, उससे भी एड़ी (टिकूण्यां) पर्यन्त एक हाथ मात्र, उससे पैरों के तल पर्यन्त एक हाथ मात्र होवे और एड़ी की पिंडली दृढ़ और शुभ लक्षण वाली चिन्हित हो।

वेदांगुलं भालनसोर्मुखस्य मानं तु घोणा चतुरंगुला च।

मूर्धानमीषन्नतमत्र कार्यमर्धैंदुबिंब पृथुभालदेशं।।१५५।।

चार अंगुल ललाट और नासिका का प्रमाण कहा है तथा मुखविस्तार और नासिका का विवरविस्तार चार अंगुल जानो, वहां मस्तक किंचित् नम्र करना और अष्टमी के चंद्र के समान ललाट करना।

भ्रुवोरंतरं युग्मभागप्रमाणं तथा

नेत्रयोः श्वेतिमा तत्प्रमाणं।
सुतारास्थितिश्चैकभागे त्रिभागा
नसोर्मूलभागेऽक्षिणी युग्मभागे।।१५६।।

भंवरों का अन्तर दो भाग प्रमाण, नेत्र का श्वेत स्थल भी दो भाग प्रमाण और उसके मध्य की काली कनी का एक भाग प्रमाण, उनमें नेत्र तीन भाग प्रमाण है। नासिका के मूल भाग में नेत्रों की स्थिति दो भाग प्रमाण जानो।

भ्रूलते वेदभागायते मध्यतः

स्थौल्ययुत्तेऽन्तिमे सत्कृशे धानुषे।
नेत्रयोः पक्ष्मणी (यावता) त्र्यंगुलंदृष्टितः
कूलतुल्ये नदीनामिवोपर्यधः।।१५७।।

भंवारा चार भाग प्रमाण विस्तृत हो, मध्य में स्थूल और अन्त में कृश धनुषाकार होवे, नेत्रों की पक्ष्मणी जहां तक तीन अंगुल दृष्टि पड़े वह नदी के तट समान नीचे ऊपर होवे।

ओष्ठद्वयं चांगुलमुच्छ्रितं स्यान्मध्ये तथा विस्तृतमत्र तुर्याः।

भागास्तु किंचिन्मिलितं द्विपाश्र्वे किंचित्प्रकाशेंऽतरुदीर्यमानं।।१५८।।
एकांगुला सृक्किणिकार्धपृथ्वीनेत्रांगुलं स्याच्चिबुकं विशालं।
मूलाद्धनोरंतरमस्य तद्ज्ञैर्वेदांगुलं द्व्यंगुलविस्तरं स्यात्।।१५९।।

दोनों ओंठ एक अंगुल मोटे, चार भाग चौड़े, किंचित् मिलित, दोनों पखवाड़े किंचित् प्रकाशवान् जिनका प्रमाण अभ्यन्तर उदीरित है, ओष्ठ की अंतस्थिति नामक सृक्किणी एक अंगुल हो और साढ़े तीन भाग दाढ़ी का निचला भाग चिबुक होवे, विशाल हो, दाढ़ी और मुख का अन्तर चार अंगुल और विस्तार दो अंगुल होवे।।१५८-१५९।।

कर्णौ च षड्भागयुतौ प्रलंबौ वेदांगुलव्यासयुतौ तदंतः।

छिद्रे तु नाली यवनालिकाभा त्वर्धांगुलं चांतरमुच्यतेऽथ।।१६०।।
श्रोत्रस्य नेत्रस्य च वेदमंतरमष्टादशांशा द्वयकर्णभित्तेः।
पाश्चात्यभागे तु चतुर्दशांशाः शल्याक्षिभागा परिधिस्तुकस्य।।१६१।।

कान की लम्बाई छह भाग प्रमाण, दो भाग चौड़ाई, उसके मध्य छिद्र में यवनाली के समान नाली अद्र्धांगुल चौड़ी तथा कर्ण व नेत्र इनके चार अंगुल अन्तर है। दोनों कर्ण समेत अथवा भित्ति का अर्थात् गण्डस्थल का अठारह भाग का अन्तर, पीछे की तरफ चौदह भाग है और मस्तक की परिधि तेईस भाग प्रमाण है।।१६०-१६१।।

तथोध्र्वभागे रविभागमात्रा त्र्यंशांगुलाः पंच च कूर्परस्य।

तत्षोडशांशाः परिधेस्तु तस्य तत्रापि हानिर्मणिबंधमात्रा।।१६२।।

तथा ऊपर के मस्तक की परिधि तालु रंध्र तक बारह भाग और तीन अंगुल है। कपाल की पांच भाग प्रमाण की सोलह भाग परिधि है परन्तु मणिबंध में क्रम की हानि भी होती है। (यहां मणिबन्ध का अर्थ स्पष्ट नहीं हुआ)।

पंचागुलं वा त्रिकभागकोनं मध्यं प्रबाहोर्विततेस्तु तस्य।

विशालता स्याद् युगचंद्रभागा स्कंधं वृषस्कंधमिवाप्तशोभं।।१६३।।

बाहू का मध्य विस्तार तीन भाग कम पांच अंगुल है, विशालता बारह भाग मात्र है और स्कन्ध बैल के स्कन्ध के समान उन्नत शोभायमान होता है।

तुर्यांगुला स्यान्मणिबंधकोर्वी वैशालमस्यास्तु चतुर्दशांशं।

मध्यांगुलेद्र्वादशकांतरं च मध्यांगुलिः पंचमिता करस्य।।१६४।।

और मणिबंध और पहुंचा (कलाई) का विस्तार चार अंगुल है। लम्बाई कोहनी से चौदह भाग प्रमाण है। मध्यांगुलित द्वादश भाग प्रमाण अन्तर है और मध्यांगुलि पांच अंगुल प्रमाण है।

अनामिका मध्यसुपर्वणाद्र्धा प्रदेशनी स्वायततुल्यभागा।

कनीयसी पर्वलघुस्तथाऽत्र पंचांगुलं मूलमधो विशालं।।१६५।।

मध्य अंगुली से अर्ध पर्व हीन अनामिका और प्रदेशनी अंगुली अपनी मध्यमा से किंचित् न्यून भाग वाली है। कनिष्ठा अंगुली एक पर्व हीन है और हाथ का मूलभाग और अधोभाग पांच अंगुल है।

अर्धांगुला मध्यमतो विधेया हीना सुतर्जन्यपि योग्यदेशा।

अंगुष्ठयुग्मं चतुरंगुलं स्यादेकांगुलं विस्तृतमत्र साधि।।१६६।।
द्विपर्वणांगुष्ठधृतिस्तथासां त्रिपर्वणा पुष्टियुता नखानां।
पर्वार्धमानेन तलं करस्य सप्तांशकं पंच सुविस्तृतं च।।१६७।।
दृढं च बाहुद्वयमुन्नतांशं निःसंधिहस्तिप्रकराकृतिः स्यात्।
लंबौ तथा जानुगतौ सुवीरताख्यापकौ शोभनलक्ष्मभाजौ।।१६८।।
न चातिनिम्नौ मृदुलौ समौ च निश्छिद्रकौ मांसलरक्तवर्णौ।
उरो वितस्तिद्वयविस्तृतं स्याच्छ्रीवत्ससंभासि सुचूचुकं च।।१६९।।

और तर्जनी मध्यमा से आधा अंगुल हीन है और अंगूठे दोनों ही समान,चार अंगुल विस्तृत, एक अंगुल किंचित् अधिक मोटा है। अंगूठे में दो ही पर्व की धारणा है, ये सभी अंगुलियां तीन-तीन पर्व वाली और नखों की पुष्टि को देने वाली, अर्ध पर्व प्रमाण हस्त का तल सात अंश लम्बा, पांच अंश चौड़ा, दोनों भुजाएं उन्नत कन्धों से युक्त और दृढ होवें, संधिरहित हाथी के सूंड के आकार की होवें वह प्रशंसा योग्य है । लम्बे पैर अपने सुन्दर वीरत्व (वीरपन) से विख्यात सुन्दर लक्षण वाले (करणहारे) सुन्दर चिन्हयुक्त हों, दोनों हाथ समान हों, ना ही अत्यन्त ऊंडा (गहरा) और न ही किंचित् ऊंडा (गहरा) हों, कोमल हों, अंगुलियां छिद्ररहित, मांसल अर्थात् पुष्ट हों, रक्तवर्ण हों सो योग्य है। वक्षस्थल दो वितस्ति अर्थात् २४ अंगुल हों और श्रीवृक्ष के चिन्ह से शोभायमान, सुन्दर कुचों से संयुक्त हो।

सषट्कपंचाशसमांगुलं तु पुष्टोरसः स्यात्परिणाहदेशः।

स्तनांतरं तालवितानभाजि युग्मांतरं स्यात्स्तनचूचुकं वै।।१७०।।

और वक्षस्थल की पीठ की चौड़ाई छप्पन अंगुल हो, स्तन का अन्तर बारह अंगुल हो, दोनों अन्तर कुचों के अग्रभाग तक होवे, वह योग्य है।

तस्याधरस्तात्तु वितस्तिमात्रं नाभिर्यमावत्र्तमनोहरा च।

मुखांगुलं रंध्रमथो तदीयं तस्याप्यधोऽष्टांगुलमंतरं स्यात्।।१७१।।
मेढ्रस्य गुप्ताग्रिमभागकस्य कटिर्विशालाष्टदशांगुला स्यात्।
हस्तद्वयं तत्परिधिः प्रशस्यः स्फिग् स्यान्मदांगुल्यवधिस्त्रिपर्णा।।१७२।।
सद्व्यंगुलं लिंगवितानमस्य मूले च मध्येंऽगुलमेकमेव।
व्यासाच्च नाहस्त्रिगुणस्तथामू त्वक् (?) प्रायसापौत्रकृतिर्विधेया।।१७३।।

और उन स्तनान्तर के नीचे एक विवस्ति मात्र दक्षिणावर्त नाभि होवे, उस नाभि का मुख एक अंगुल होवे, उस नाभि के नीचे आठ अंगुल अन्तर छोड़कर लिंग है, उस लिंग का अग्रभाग गुप्त हो और दोनों के बीच अर्थात् नाभि और लिंग के पाश्र्व में कटि (कमर) हो जो अठारह अंगुल प्रमाण हो, उस कटि की परिधि दो हाथ प्रमाण हो, पेडू लिंग के ऊपर है वह आठ अंगुल हो उसमें तीन रेखा का चिन्ह हो, उस लिंग का विस्तार किंचित् अधिक दो अंगुल हो, मूल अथवा मध्य में एक अंगुल मोटा और अन्त में किंचित् अधिक एक अंगुल हो, विस्तार से परिधि तीन गुणी हो और पोता का आकार आम की गुठली के समान हो।

कुकुंदरौ वाऽपि नितंबदेशौ समांसलग्रंथिकया वितानौ।

स्कंधस्य पायोः रसबह्निसंख्यं स्यादन्तरंपृष्ठविभागदेशे।।१७४।।
वितस्तियुग्मायतमूरुयुग्मं विस्तीर्णतैकादशभिः प्रनुन्ना।
मूले च मध्ये नवकांगुलं स्यात्त्रिः स्यात्तयोः सत्परिधिप्रतानं।।१७५।।
जंघाद्वयं वृत्तमथो द्वितालं षडंगुला तत्पिटिका सुमध्या।
सपादतुर्यांशकगुल्फदेशः पादौ चतुश्चंद्रकलावदातौ।।१७६।।
सुगूढगुल्फौ शुभचिह्नलक्ष्यौ सदंगुलीयोगविधानदृश्यौ।
निम्नोन्नतं तत्र तलं प्रदिष्टं सत्र्यंगुलांगुष्ठविभासमानं।।१७७।।
ऋज्वायतस्य त्विति मार्ग एष पर्यंकसंस्थस्य विशेष उक्तः।
उत्सेधमूध्र्वात्परिणाहकार्धं तावत्सुपर्यंकमवस्थितं स्यात्।।१७८।।
सुबाहुयुग्मांतरिते प्रदेशे तुर्यांगुलं चांतरमाहुरन्ये।
प्रकोष्ठकात्कूर्परमूलवृद्धं सद्व्यंगुलं सन्निपुणैर्विधेयं।।१७९।।

कुकुंदराकार अर्थात् बालू के टीवा (?)के आकार का नितम्ब हो जो पुष्ट मांस और गांठ से संयुक्त हो। कंधे के प्रदेश से अपान के प्रदेश का छत्तीस अंगुल अन्तर पृष्ठ की तरफ से जानना चाहिए। उरु (जंघा) दोनों ओर वितस्ति प्रमाण लम्बे, विस्तीर्ण ग्यारह अंगुल से नीचे, पैर की तरफ से मूल और मध्य में नौ अंगुल हो जिसकी परिधि तिगुनी हो, दोनों जंघाओं का वृत्त गोलाकार और लम्बाई दो ताल है, चौबीस अंगुल है, जिसका मध्यभाग सुन्दर है ऐसी उसकी पीडी छह अंगुल हो, टिकूण्या (टिहुनी)-? दिखाई देती हुई चार अंगुल हो और चरण चौदह अंगुल हों। वे चरण गूढ़ हैं जिनकी टिकूण्या (ऐड़ी) सुन्दर चिन्हयुक्त हो और वे सुन्दर उंगलियों की योजना में निपुण हों, उसका तलभाग किंचित् नीचा, गहरा और तीन अंगुल प्रमाण उंगलियों से शोभायमान हो। ऐसे सरल सीधा कायोत्सर्ग प्रतिमा का यह मार्ग कहा है। पद्मासन मूर्ति में कुछ भेद है, इसकी उंचाई से मोटाई अर्ध प्रमाण हो, दोनों हाथ और चरण ऊपर नीचे पर्यंकासन में जैसे अवस्थित हैं वैसे हों। इसी पर्यंकासन में दोनों भुजाओं के अपने पखवाड़े का अन्तर चार अंगुल प्रमाण कहा है। अन्य आचार्यों का ऐसा मत है कि हाथ की कलाई से कुहनियों की वृद्धि तक दो अंगुल का अन्तर होवे।

स¼क्षणं भावविवृद्धिहेतुकं संपूर्णशुद्धावयवं दिगंबरं।

सत्प्रातिहार्यैर्निजचिन्हभासुरं संकारयेद्विंबमथार्हतः शुभं।।१८०।।

इस प्रकार श्री अर्हंत का बिम्ब समीचीन लक्षण से संयुक्त, शांत भाव को दर्शाने वाला, संपूर्ण आंगोपांग से शुद्ध, दिगम्बर स्वरूप, अष्ट प्रातिहार्य से संयुक्त और अपने-अपने चिन्ह से शोभायमान कराना योग्य है।

सिद्धेश्वराणां प्रतिमाऽपि योज्या तत्प्रातिहार्यादिविना तथैव।

आचार्यसत्पाठकसाधुसिद्धक्षेत्रादिकानामपि भाववृद्ध्यै।।१८१।।

सिद्ध परमेष्ठी का प्रतिबिम्ब भी प्रातिहार्य के बिना स्थापना के योग्य है और शुभ भाव की वृद्धि के लिए आचार्य परमेष्ठी, उपाध्याय, साधु और सिद्धक्षेत्र आदि की प्रतिमा योग्य है।

नासाग्रदत्तेक्षणमुग्रतादिदोषैरपेतं जिनबिंबमह्र्यं।

अंगाधिके हीनतनौ प्रकर्तुर्नाशाय स्यादत एव यत्नः।।१८२।।

इस प्रकार अपनी नासाग्रदृष्टि और व्रूरतादि दोषों से रहित जिनबिम्ब पूजने योग्य है। अगर अंग हीन अथवा अधिक है तो कर्ता के अर्थात् पूजक के नाश के लिए कारण है, इसलिए प्रतिमानिर्माण में यत्न ही परिपूर्ण श्रेष्ठ है।

विस्तारतोऽस्य प्रथितुं समीहा चेच्छ्रावकाचारत ऊहनीयं।

न मृत्तिकाकाष्ठविलेपनादिजातं जिनेंद्रैः प्रतिपूज्यमुक्तं।।१८३।।

इस आंगोपांग के रेखाचिन्ह आदि को विस्तार से जानने के इच्छुक को श्रावकाचार मूल अंग से विचार करना योग्य है। मिट्टी , काष्ठ, चित्राम (विलेपन आदि) आदि के जिनबिम्ब को पूज्य नहीं कहा है। ।अथ प्रतिमानिर्माणमुहूर्तः। अब प्रतिमा के निर्माण का मुहूर्त कहते हैं-

उत्तराणां त्रये पुष्ये रोहिण्यां श्रवणे तथा।

वारुणे वा धनिष्ठायामाद्र्रायां बिंबनिर्मितिः।।१८४।।

उत्तरा तीन, पुष्य, रोहिणी, चित्रा, धनिष्ठा , आद्र्रा, सोम, गुरु, शुक्र में बिम्ब बनाना श्रेष्ठ है।।१८४।।

प्रसन्नमनसा कारुं संतप्र्य पुष्पवाससैः।

तांबूलैद्र्रविणैर्यज्वा कारयेन्नेत्रह्य्त्प्रियं।।१८५।।
गुरुपुष्ये तथा हस्तार्यम्णि गर्भोत्सवे शुभान्।
निमित्तान्नवलोक्येशप्रतिमानिर्मितिः शुभा।।१८६।।

ऐसा है कि-पूजक सर्वप्रथम प्रसन्न मन होकर पुष्प, वस्त्र , पान, दक्षिणा आदि से कर्ता सिलावट (शिल्पी) को संतुष्ट कर अपने नेत्र व ह्य्दय को प्रिय ऐसा बिम्ब बनववे तथा गुरु पुष्य योग तथा हस्ताक योग में जिस भगवान का बिम्ब बनाना हो उन भगवान के गर्भकल्याणक दिन में शुभसूचक निमित्त देखकर प्रतिमा निर्माण योग्य होता है।।१८५-१८६।।

[सम्पादन]
अथ प्रतिष्ठामुहूत्र्ताः-

अब प्रतिष्ठा का मुहूर्त कहते हैं-

लग्नस्य शुद्धिमभिधाय सुपंचधाग्र्यां यां वारयोगतिथिभादिकलग्नशुद्ध्या।

नैमित्तिकार्थपरिसंकलनैः पुराणैरुक्तां प्रतिष्ठितिविधौ पुरतो विदध्यात् ।।१८७।।
भौमं रविं शौरिमपास्य वाराः सर्वे हि शस्याः किल संस्थितौ च ।
सिद्धामृतादिं परियोज्य रिक्ताममां त्यजन् याति सुसौख्यभावं।।१८८।।
रिक्तास्वथो योगविशेषसिद्ध्या कार्याणि कुर्यात्सिनिवालिकां च।
संवर्जयेत्सिद्धियुजं तथापि रुद्रामपि प्रांततिथिं विनेष्टं।।१८९।।
जिनस्य यस्यात्र दिने प्रजातं कल्याणकं तन्नियमेन तत्र।
तस्यास्तु तत्कार्यमथोत्तरायां पुनर्वसूपुष्यकरस्रवस्सु।।१९०।।
अंत्येऽपि रोहिण्यजवाजिषु द्राक् चित्रामघास्वातिभगांगमूलं।
कदाचिदंगीकृतमत्र चान्यत् ग्राह्यं सुनक्षत्रमधीतिवाक्यात्।।१९१।।

पांच प्रकार की तिथि,वार, नक्षत्र योग कर्णरूप दिनशुद्धि है, उसमें भी लग्न शुद्धि को मुख्य करके, निमित्तज्ञानियों द्वारा निकाले गए दिन में, पुराण पुरुषों के द्वारा कथित दिन में प्रतिष्ठा की विधि से पहले विधान करे। मंगलवार और शनिवार को छोड़कर सारे ही वार (दिन) संस्थापन में प्रशंस्य हैं। अमृतसिद्धि योग में योजना करके अमावस्या को त्यागकर कर्ता सुख भाव को प्राप्त करता है। रिक्ता तिथि में भी योगविशेष की शुद्धि हो तो कार्य शुभ होता है, पूर्णिमा को वर्जित करे और सिद्ध योग भी हो परंतु एकादशी हो तो वर्जित है तथा मासांत तिथि के बिना भी इष्ट कहते हैं। जिस जिनेन्द्र का जिस तिथि में जो कल्याण हुआ हो उस तिथि में वह कल्याणक इष्ट है। उत्तरा, पुनर्वसु, पुष्य, हस्त, श्रवण इनमें और रेवती , रोहिणी, अश्विनी में शुभ योग हो तो ग्राह्य है। चित्रा, मघा,स्वाति, भरणी, मूला को भी कदाचित् आवश्यक कार्य में अंगीकार किया है और अन्य भी शुभ योगयुक्त नक्षत्र ज्योतिषी के वाक्य से ग्रहण करना चाहिए।।१८७-१९१।।

विष्कंभमूले शरनाडिका षट् गंडातिगंडे नव वज्रघाते।

व्यत्यादिपातं परिघं च सर्वं विवर्जयेद् मुक्तिसुखाभिलाषी।।१९२।।
भूकंपदिग्दाहनरेशमृत्यूनुद्दिश्य घस्रत्रयमत्र वज्र्यं।
चरेषु विष्टिप्रगतेषु नैवं प्रतिष्ठितिं प्रांचति पूज्यलोकः।।१९३।।

विष्कम्भ और मूल में प्रथम पांच घड़ी वर्जित है, गंड-अतिगंड में छह घड़ी , वङ्का और घात में नौ घड़ी वर्जित है और मुक्तिसुख की वांछा करने वालों को व्यतिपात और परिघ सबको ही वर्जित करना योग्य है। धरती का कम्पन (भूकम्प), दिशादाह, राजा का मरण आदि उत्पात के उद्दंश में तीन दिन इस प्रतिष्ठा को करना वर्जित है। पूज्य पुरूष इस कार्य की स्थापना में चार नक्षत्र और विष्टि योग में होने पर सर्वथा वर्जित कहते हैं।।१९२-१९३।।

सूर्येण वा चंद्रमसा कुजेनाष्टम्यंकशल्यानि शुभावहानि।

बुधेन च द्वादशिका द्वितीया गुरुस्पृशो दिक्शरपूर्णिमाश्च।।१९४।।

सूर्यवारा अष्टमी , सोमवारा नवमी, मंगलवारा तृतीया शुभ होती है। बुद्धवार द्वादशी तथा द्वितीया और गुरुवारयुक्त दशमी, पंचमी, पूर्णिमा होवे वह श्रेष्ठ है।

शुव्रेण षष्ठी प्रतिपत्प्रशस्ता चतुर्थिका वा नवमी शनिस्था।

सिद्धिं तथा चामृतयोगमुच्चैः प्रशस्तमाहुर्मुनयो निमित्तात्।।१९५।।

तथा शुक्रवार षष्ठी एवं प्रतिपदा शुभ है, शनिवार चतुर्थी एवं नवमी श्रेष्ठ है , उनमें सिद्धि योग अमृतसिद्धि होता है जिसको मुनीश्वर निमित्तज्ञान से अतिप्रशस्त कहते हैं।

सूर्यादितो वा भरणीं च चित्रां तथोत्तराषाढधनिष्ठभं च।

सदुत्तरां फाल्गुणिकां च ज्येष्ठामन्त्यं तथा जन्मभमेव मोच्यं।।१९६।।

सूर्यवार में सात बार में अनुक्रम से भरणी, चित्रा, उत्तराषाढ़ा, धनिष्ठा, उत्तराफाल्गुनी, ज्येष्ठा, रेवती त्याज्य है तथा जन्म नक्षत्र भी त्याज्य है।

दग्धा तिथिः प्रयत्नेन वर्जनीया तथा शुभाः।

अमृताख्या अत्र योज्याः प्रतिष्ठाया महोत्सवे।।१९७।।

बड़े प्रयत्नपूर्वक दग्धा तिथि वर्जनीय है तथा शुभ अमृतादि योग ही प्रतिष्ठा के उत्सव में उचित है।

क्रूरासन्ने दूषितोत्पातलूता विद्धा दुष्टाः पर्वसन्नोपपाताः।

वज्र्याः सर्वेऽसद्ग्रहास्सूर्यबेधो राशिद्रेष्काणक्र्षकांशोऽपि वज्र्यः।।१९८।।

क्रूर आसन्न दूषित उत्पात लूता विद्धदुष्ट सन्नउपपात वर्जित है अथवा राशि द्रेष्काण नक्षत्र सम्बन्धी सूर्यवेध भी वर्जित है।

लग्नात्तृतीये शिवषट्कदेशे भौमो यमश्चापि शनैश्चरोऽपि।

शुभाय सूर्यो दशमोऽपि सौम्यो मुक्त्वाष्टमं द्वादशमं शुभाय।।१९९।।

लग्न के तीसरे स्थान , षट्कस्थान, ग्यारहवें स्थान तथा भौम, राहु एवं शनिवार होवे तो शुभ है। दशवें में सूर्य श्रेष्ठ है परन्तु चन्द्रमा आठवें तथा बारहवें में नहीं हो तो शुभ के अर्थी हैं। (देने वाले हैं)।।१९९।।

षष्ठाष्टमं द्वादशकं तृतीयं त्यक्त्वा गुरुः स्याद् शुभदो विधिज्ञः।

शुक्रो रसाष्टांत्यमुनिस्थितोऽसौ न स्याच्छुभोऽन्यत्र शुभाय बोध्यः।।२००।।

छठे, आठवें तथा बारहवें में तृतीया को छोड़कर गुरु श्रेष्ठ है। पंचम में गुरु श्रेष्ठ है और छठे, आठवें, बारहवें में शुक्र शुभ नहीं अन्यत्र शुभ होता है।

शशी त्रिरुद्रद्वितये प्रशस्तो यदास्तदौर्बल्यमुपागतो न।

ताराबलं चात्र विधौ विधेयं त्रिसप्तपंचम्यपराः शुभाय।।२०१।।

चन्द्रमा तीसरे, दूसरे और ग्यारहवें में श्रेष्ठ होता है। जो हीन बली तथा अस्त नहीं होता है अथवा तारा बल ही इस विधि में विधान करना, वह तीसरी, पंचमी , सप्तमी से अन्य होवे तो शुभ होता है।

कृष्णे च ताराबलमत्र शुक्ले सुधांशुवीर्यं नियतं मुनींद्रैः।

जीवेंदुसूर्योऽस्य बलं प्रधानमन्यद्ग्रहाणामपि निर्बलत्वे।।२०२।।

कृष्णपक्ष में ताराबल प्रशस्त है, शुक्ल पक्ष में चन्द्रमा का बल श्रेष्ठ है और मुनीन्द्र ने ऐसा कहा है कि अन्य ग्रह निर्बल भी होवें तथापि वृहस्पति, चंद्र, गुरु, सूर्य का बल प्रधान निश्चित किया है।