ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

अनंतचतुष्टय

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनंतचतुष्टय
Four-excellences of Jaina Lord (infinite conation-knowledge, bliss & power). अनंतदर्शन ,अनंतज्ञान ,अनंत सुख और अनंतवीर्य ये ४ मुख्या गुण केवली अरहंत पर्मात्र्मा के प्रगट होते हैं ।