ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अनंतवीर्य

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनंतवीर्य
Name of the 8th Tirthankar of Videh kshetra (region) and the 24th Tirthankar of past era and the first salvated soul of present era. विदेह क्षेत्र के ८वेन एवं भूतकालीन २४वें तीर्थंकर एवं भगवान ऋषभदेव के पुत्र जो इस युग में सर्वप्रथम मोक्ष गए ।

अथवा

Infinite power of knowing omniscience. सिद्धों का एक गुण –केवलज्ञान के विषय में अनन्त पदार्थों को जानने की शक्ति।

अथवा
A disciple of Pandit Gonsen, Name of an Acharya of Dravid group. गोणसेन पण्डित के शिष्य जिन्होंने सिद्धविनिश्चय टीका ग्रन्थ की रचना की ,द्रविध संघी आचार्य जिन्होंने जम्बूद्वीपपण्णत्ति ग्रन्थ लिखा (ई.स.९७५-१०२५) ।