Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पू० गणिनी श्रीज्ञानमती माताजी ससंघ मांगीतुंगी के (ऋषभदेव पुरम्) में विराजमान हैं |

अनधिगत चारित्रार्य

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनधिगत चारित्रार्य
Those (Aryas) having Anadhigata Charitra. जो अंदर में चारित्र मोह का क्षयोपशम होने पर बार्ह्य उपदेश के निमित्त से विरति परिणाम को प्राप्त हुए हों ।