Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पू० गणिनी श्रीज्ञानमती माताजी ससंघ मांगीतुंगी के (ऋषभदेव पुरम्) में विराजमान हैं |

अनमेल संबंध

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अनमेल संबंध

लेखिका - आर्यिका चंदनामती
रागी

बहुत हैं
वैरागी भी
कुछ हैं
जग के इस समन्दर में
देखो तो
सब तुच्छ हैं।
भावों का
खेल है
जड़-चेतन
का मेल है
दिख रहा दुनिया में
सब कुछ
अनमेल है।