ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अनेकांत की व्याख्या

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
अनेकांत की व्याख्या

Anekanth.jpg

[सम्पादन] (1) प्रश्न-अनेकांत की व्याख्या क्या है ?

उत्तर - प्रत्येक वस्तु में अनंत धर्म हैं, उनमें से किसी एक धर्म को कहते समय नय की अपेक्षा रखना व उसके विरोधी धर्म को भी स्वीकार करना अनेकांत है। जैसे जीव नित्य है, द्रव्यार्थिक नय की अपेक्षा से। जीव अनित्य है, पर्यायार्थिकनय की अपेक्षा से जो किसी का पुत्र है, व पिता भी है। अपने पुत्र का पिता है व पिता का पुत्र है आदि।

[सम्पादन] (2) प्रश्न-संसार में सभी के कथन को या मत को किसी भी अपेक्षा स्वीकार करना अनेकांत है क्या ?

उत्तर - नहीं, जैसे अनेक विषकण मिलकर अमृत नहीं बनते हैं, वैसे ही सभी के कथन या मत मिलकर अनेकांत नहीं बनता है। जैसे-कथंचित् रात्रिभोजन धर्म है कथंचित् रात्रिभोजन अधर्म है, ऐसी अनेकांत की व्याख्या नहीं है। दूसरा उदाहरण-जैसे-कथंचित् दिगम्बर मुद्रा से ही मोक्ष है, कथंचित् वस्त्रधारी या श्वेताम्बर अथवा अन्यलिंगी साधु वेष से मोक्ष है, ऐसा अनेकांत जैनशासन में मान्य नहीं है।

इसीलिए राजवार्तिक ग्रंथराज में श्री अकलंकदेव ने कहा है कि-एकांत भी दो प्रकार का है सम्यक्-एकांत व मिथ्याएकांत। ऐसे ही अनेकांत भी दो प्रकार का है-सम्यक् अनेकांत और मिथ्या अनेकांत। दिगम्बर मुद्रा से ही मोक्ष है यह सम्यक् एकांत है। रात्रिभोजन त्याग ही धर्म है यह सम्यक् एकांत है इत्यादि। आज कोई बलि में धर्म मानते हैं, कोई मांसाहार व मदिरापान में धर्म मानते हैं। ये सभी मत जैनशासन मे मान्य नहीं है। इनमें अनेकांत नहीं लगेगा। कोई सम्प्रदाय दिन में भोजन त्याग कर रात्रि में भोजन करके व्रत खोलते हैं। इसमें भी अनेकांत नहीं लगेगा।