ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अन्यत्व :

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अन्यत्व :

एको मे शाश्वत आत्मा, ज्ञानदर्शनसंयुत:।

शेषा मे बाह्या भावा:, सर्वे संयोगलक्षणा:।।

—समणसुत्त : ५१६

ज्ञान और दर्शन से संयुक्त मेरी एक आत्मा ही शाश्वत है। शेष सब अर्थात् देह तथा रागादि भाव तो संयोग लक्षण वाले हैं—उनके साथ मेरा संयोग संबंध मात्र है। वे मुझसे अन्य ही हैं।

संयोगमूला जीवेन, प्राप्तदु:खपरम्परा।

तस्मात्संयोगसम्बन्धं, सर्वभावेन व्युत्सृजामि।।

—समणसुत्त : ५१७

इस संयोग के कारण ही जीव दु:खों की परम्परा को प्राप्त हुआ है। अत: सम्पूर्ण भाव से मैं इस संयोग—संबंध का त्याग करता हूँ।

यो ज्ञात्वा देहं, जीवस्यवरूपात् तत्त्वत: भिन्नम्।

आत्मानमपि च सेवते, कार्यकरं तस्य अन्यत्वम्।।

—समणसुत्त : ५१९

जो शरीर को जीव के स्वरूप से तत्त्वत: भिन्न जानकर आत्मा का अनुचिन्तन करता है, उसकी अन्यत्व भावना कार्यकारी है।