Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|

प्रतिदिन पारस चैनल पर 6.00 बजे सुबह देखें पूज्य गणिनी प्रमुख आर्यिका श्री ज्ञानमती माताजी के लाइव प्रवचन

पूज्य गणिनी ज्ञानमती माताजी ससंघ पोदनपुर बोरीवली में विराजमान है।

अपनों को न लगने दें दर्द की नजर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनों को न लगने दें दर्द की नजर

घर के बड़े यदि दर्द से कराहें तो भला किसे चैन मिलता है, यहां तक कि दादाजी के साथ खेलने वाले छोटू का चेहरा भी मायूसी से मुरझा जाता है। हां, मगर अपने घर में उपलब्ध कुछ चीजों से आप बड़ों को दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकते हैं।

नमक मिले गरम पानी में एक तौलिया डालकर निचौड़ लें, इस गरम तोलिया से दर्द के स्थान पर भाप दें, दर्द से राहत पहुंचाने का यह एक अचूक उपाय है।

रोज सुबह सरसों या नारियल के तेल में लहसुन की तीन या चार कलियां डाल कर गरम कर लें। ठंडा होने पर इस तेल से दर्दवाले हिस्से की मालिश करें, दर्द से राहत मिलेगी।

कड़ाही में दो तीन चम्मच नमक डालकर इसे अच्छे से सेंक लें। इस नमक को थोड़े मोटे सूती कपड़े में बांध कर पोटली बना लें। दर्दवाली जगह पर इस पोटली से सेक करने से भी दर्द से आराम मिलता है।

अजवाइन को तवे पर धीमी आंच पर सेंक ले । ठंडा होने पर इसे पीड़ित व्यक्ति को धीरे—धीरे चबाते हुये निगलने को कहें, इसके नियमित सेवन से कमर दर्द में लाभ मिलता है।

दर्द का सामना करने वाले सदस्य को अधिक देर तक एक ही पोजीशन में बैठने से मना करें। हर ३०—४० मिनट में अपनी कुर्सी से उठकर थोड़ी देर टहलने को कहें।

दर्द से शिकार लोगों को नरम गद्देदार सीटों से परहेज करने को कहे। दर्द के रोगियों को थोड़ा सख्त बिस्तर पर सुलाएं।

योग भी कमर दर्द में लाभ पहुंचाता है। भूजंगासन, शलभासन, हलासन, उतानपादासन, श्वसन आदि कुछ ऐसे योगासन हैं जो खासतौर से कमर दर्द में काफी लाभ पहुंचाते हैं, हां, मगर इन योगासनों को योगगुरू की देख रेख में ही करने को कहे।

कैल्शियम की कम मात्रा से भी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, इसलिये बड़े बुजुर्गों को कैल्शियमयुक्त चीजों का सेवन करने को कहें। दर्द का सामना करने वाले व्यक्ति को कार चलाते वक्त सख्त सीट में बैठने को कहें, साथ ही उन्हें बैठने की सही पोजिशन अपनाने और कार ड्राईव करते समय सीट बैल्ट टाइट रखने को कहें।


आजाद साप्ताहिक , अजमेर,२१ नवम्बर, २०१४