Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


खुशखबरी ! पू० गणिनी श्रीज्ञानमती माताजी ससंघ कतारगाँव में भगवान आदिनाथ मंदिर में विराजमान हैं|

अपुनरुकता अक्षर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपुनरुकता अक्षर
The words which are not repeated again. जो अक्षर दुबारा न आवे,अक्षरात्मक श्रुतज्ञान में जितने जिनवाणी के अक्षर हैं वे ‘अ’ आदि अक्षर के संयोगादी करने से बनते हैं ।