ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अफ्रीका में पाया जाता है ये खरतनाक जानवर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
अफ्रीका में पाया जाता है ये खरतनाक जानवर

Honeybadger1.jpg

ग्वालियर, अफ्रीका के घने जंगलों में पाया जाने वाले खतरनाक जानवर के ग्वालियर चंबल संभाग के जंगल में दिखने से वन विभाग के अफसरों के होश उड़ गए हैं मामाला सेवढ़ा के जंगल का है, यहाँ हनी बेजर नाम का प्राणी घूमता हुआ दिखा है, दुर्लभ प्रजाति के इस खरतनाक जानवर पर फोरेस्ट असफर निगाह रखे हुए हैं, यह माना जा रहा है कि हनी बेजर का जोड़ा जंगल में हो सकता है, अफ्रीका के जंगलों में मिलता है हनी बेजर...
दतिया जिले के सेंवढ़ा के जंगलों में राजस्थान के रणथंभौर से एक टाइगर पिछले कई सालो से डेरा डाले हुए है, इस टाइगर पर निगाह रखने के लिए जंगल में ट्रैप कैमरे लगाए गए हैं इसी ट्रैप कैमरे में पहली बार १९ मई को एक जानवर की तस्वीर वैâद तो यह फोटो हनी बेजर नाम के जानवर का था, फोरेस्ट अफसरों ने जंगल में इस जानवर को खोजना शुरू किया तो वह नहीं मिला, लेकिन २ जून को फिर से एक कैमरे में हनी बेजर का फोटो आ गया इससे यह कन्फर्म हो गया कि सेंवढ़ा के जंगलों में हनी बेजर ने अपना डेरा जमा लिया हे, ये कहाँ से आया और कब से यहाँ है इसकी जानकारी अफसरों को नहीं है, सूत्रों का कहना है कि इस रीजन में यह जानवर पहली बार देखा गया है, हनी बेजर के बारे में दतिया के फोरेस्ट असफर जेआर बास्कले ने बताया कि वैसे तो यह जानवर अफ्रीका के जंगलों में पाया जाता है, लेकिन यहाँ आना किसी हैरत से कम नहीं है, फिलहाल हनी बेगर के जंगल में मूवमेंट पर निगाह रखी जा रही है, खासतौर से शिकारियों से इसकी सुरक्षा जरूरी है।
बिज्जू प्रजाति का प्राणी है हनी बेजर यह बिज्जू की प्रजाति का है, इसके शरीर का ऊपरी हिस्सा सफेद और बाकी काला होता है इसे शहद और जंगल की वनस्पति से लेकर कीड़े खाता है, इसे आईसीयूएन की लिस्ट में शामिल किया गया है, हनी बेजर खूंखार जानवर भी इस पर हमला करने से बचते हैं।

आज का आनंद २६ जुलाई २०१६