ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

अमरूद का प्राकृतिक रूप में सेवन, बहुत से रोगों से दिलाता है छुटकारा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अमरूद का प्राकृतिक रूप में सेवन, बहुत से रोगों से दिलाता है छुटकारा

Efsef.jpg
Efsef.jpg
Guava.PNG

अमरूद बाहर से कैसा भी हो, अन्दर से सफेद अमरूद अधिक स्वादिष्ट होता है । गुलाबी अमरूद की भी कुछ किस्में काफी मीठी व मधुर होती है । इलाहाबादी अमरूद सबसे उत्तम किस्म का माना जाता है । यू.पी. के अमरूद बहुत रूचिकर हैं । अमरूद में विटामिन सी सभी फलों से अधिक होता है । वैसे आंवला और चेरी पहले तथा दूसरे नंबर पर हैं मगर वे अमरूद की तरह ताजा प्राकृतिक रूप में कम खाए जाते हैं । अमरूद में विटामिन ‘सी’ इसकी छाल या छिलके में सब से अधिक होता है । अन्दर की ओर जाते जाएं तो यह कम होता जाता है । अमरूद को छिलका हटा कर कभी न खाएं ।। अमरूद से अनेक रोगों का उपचार होता है । कुछ का जिक्र यहां कर रहे हैं ।

बवासीर में — बवासीर का रोगी यदि रोज अमरूद खाए तो मस्सों को आराम मिलता है । खाली पेट अमरूद खायें। अधिक लाभ होगा । जिसे बहुत कब्ज रहता हो, उसे रोज अमरूद खाने चाहिए|

पेट दर्द रहना — अमरूद की कोमल पत्तियां लेकर धोकर पीसें। फिर पानी में मिलायें, छाने व पी लें । पेट दर्द में आराम मिलेगा ।

काली खांसी — अमरूद को गर्म रेत में सेंक कर खाएं ।। हर प्रकार की खांसी में आराम मिलेगा । विशेषकर काली खांसी भी ठीक होती नजर आएगी ।

दांतों का दर्द — अमरूद के ताजे पत्तों को चबाएं । । इससे दर्द करते दांतो को आराम मिलेगा ।

मसूड़ों में सूजन — मसूड़ों में सूजन हो तो अमरूद के पत्ते पानी में डाल कर उबालें। इसके पानी से कुल्ले करें। आराम मिलेगा ।

मुंह में छाले होना — अमरूद के पत्तों का रस निकालें व इसमें थोड़ा कत्था मिलाएं तथा मुंह में लगाएं । छाले दूर होंगे। अमरूद का पत्ता धोकर उस पर कत्था लगाकर इसे चबाएं ।। छाले नहीं रहेंगे।

गुदा निकलना — अमरूद के पत्ते पीसें। इसको मल द्वार पर बांधें। गुदा नहीं निकलेगा । मस्सों को आराम मिलेगा ।

आंतों में घाव — यदि आंतों में घाव हो जाए तो अमरूद का जूस पिलाएं व अमरूद खिलाएं ।। इसमें मौजूद टेनिक एसिड के कारण घाव ठीक हो जायेगा ।