ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

अमूढ़दृष्टि

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अमूढ़दृष्टि
Auspicious articles. सम्यग्दर्शन का चौथा अंग-मूढता उअया मूर्खता के किसी कुदेव,कुधर्म,कुशास्त्र में श्रद्धा न लाना ।