Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


प्रतिदिन पारस चैनल पर पू॰ श्री ज्ञानमती माताजी षट्खण्डागम ग्रंथ का सार भक्तों को अपनी सरस एवं सरल वाणी से प्रदान कर रही है|

प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें | 6 मई 2018 से प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक |

अमृतकुम्भ

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अमृतकुम्भ
Nectar pitcher, Real state of self evidence. अमृत से भरा कलश ,समयसार के अनुसार जो प्रतिक्रमण आदि के विकल्पों से रहित तीसरी भूमिका है वह स्वयं साक्षात् अमृतकुम्भ है ।