ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अयोध्या

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अयोध्या - उत्तरप्रदेश के फैजाबाद ज़िले में स्थित यह अयोध्या नगरी एक प्रसिद्ध तीर्थ के रूप में माना जाता है ।
यहाँ भगवान ऋषभदेव आदि पाँच तीर्थंकरों के जन्म हुए हैं ।
मर्यादापुरुषोत्तम भगवान राम का जन्म भी अयोध्या में हुआ था ।
वर्तमान में अयोध्या अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त तीर्थ माना जाता है ।

अथवा

Birth place of Rishabhadev etc. five Jaina Lords (eternal birth place). A dominion, army chief of Chakravarti. एक नगर का नाम,शाश्वत तीर्थ जहन प्रत्येक चतुर्थ काल में चौबीस तिर्थान्कर्जन्म लेते हैं,वर्तमान में हुंडावसर्पिणी काल के दोष से यहाँ पर मात्र पांच तीर्थंकर-ऋषभ,अजित,अभिनन्दन,सुमति एवं अनंतनाथ भगवान ने जमन लिया.मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम की जन्मभूमि.वर्तमान में यहाँ के जैन तीर्थ (रायगंज) परिसर में ३१ फुट उत्तुंग भगवान ऋषभदेव की खड्गासन प्रतिमा विराजमान है.सन् १९६५ में आचार्य श्री देशभूषण जी महाराज की प्रेरणा से यह प्रतिमा स्थापित की गयी.पुनः ई सन् १९९४ में गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी की प्रेरणा से अनेक निर्माण हुए,भगवान ऋषभदेव का प्रथम बार महामस्तकाभिषेक हुआ और अयोध्या को ऋषभदेव जन्मभूमि के रूप में प्रसिद्धि प्राप्त हुई.यहाँ पर जन्में पांच तीर्थंकरों की पांच ऐतिहासिक टोंक बनी हुई है ।