ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अरटाल अतिशय क्षेत्र

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
अरटाल अतिशय क्षेत्र

ROSE-BORDER-11668791 l-72.jpg
ROSE-BORDER-11668791 l-72.jpg
(ऋषभदेशना पत्रिका से साभार)

कर्नाटक हावेरी जिले में स्थित अरटाल ग्राम का पूरा नाम अरटावली था। हावेरी से अरटाल ग्राम करीब ५१ किमी. दूर है। अरटाल अतिशय क्षेत्र में विराजमान १००८ श्री पाश्र्वनाथ भगवान की प्रतिमा अतिशययुक्त है। मंदिर की प्राचीनता- वहाँ विद्यमान शिलालेख के अनुसार सन् १०४५ में इस मंदिर का निर्माण हुआ था। आज भी यह मंदिर और मूलनायक प्रतिमा एवं अन्य प्रतिमाएँ सुरक्षित हैं।

प्राचीन इतिहास के अनुसार यह क्षेत्र तपस्वियों की तपोभूमि रहा है। अभी कुछ वर्षों से पाश्र्वनाथ भगवान की मनोज्ञ प्रतिमा के मस्तक से सुगंधित जल झरने लगा है। अब यह आसपास के लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र बनता जा रहा है। मूर्ति इतनी मनोज्ञ है कि दर्शनार्थी मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। क्षेत्र उन्नति की ओर अग्रसर है।