ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

अवशेष कुमार के भजन

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भजन नं. १ से ३२


आेम जपो रे आेम -१

भक्तों चढलो -२

गुरुदेव आये शरण हम तुम्हारी-३

दुक्खों में आराम पायेगा-४

चली चली शाकाहार की सेना-५

होरी में गाये फकीरा-६

जय गुरुदेव जय गुरुदेव -७

गुरुवर हमारे भोले भाले -८

जिनवाणी आत्मज्ञान देती है-९

संसार के सागर में-१०

चलो ना चलो -११

गुरुदेव के गमन से मन -१२

विछडेंगे फिर हम -१३

शिखर जी के द्वार हम -१४

किशन गुलाबी के छोटे-१५

बडे बाबा के दर्शन पाना तो-१६

चंदा बाबा भी है पारसबाब-१७

मेरी जिंदगी में गुरुवर -१८

गुरुदेव का हूँ मैं दीवाना-१९

ना कोई विकार है-२०

अकेला राह में किसके-२१

दीपक की लडियों से-२२

सपना सलोना हाय-२३

भोर भये प॒भु के पट-२४

गुरुवर की शरण आओ-२५

मैं तो कब से तेरी शरण में हूं-२६

विमल भरत सागर-२७

त्रिशला माँ के दुलारे-२८

लहराये धर्म की ध्वजा-२९

नर जन्म पा के-३०

उड चला पंछी रे-३१

किशन के कन्हैया से-३२