ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

असत्य :

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


असत्य :

एकत: सकलं पापमसत्योत्थं ततोऽन्यत:।

साम्यमेव वदन्त्यार्यास्तुलाया धृतयोस्तयो:।।

—ज्ञानार्णव : १२६

एक ओर जगत् के समस्त पाप एवं दूसरी ओर असत्य का पाप—इन दोनों को तराजू में तोला जाय, तो बराबर होंगे—ऐसा आर्य पुरुष कहते हैं।

मृषावाक्यस्य पश्चाच्च पुरस्ताच्च, प्रयोगकाले च दु:खी दुरन्त:।

एवमदत्तानि समाददान:, रूपेऽतृप्ता दु:खितोऽनिश्र:।।

—समणसुत्त : ९३

असत्य भाषण के पश्चात् मनुष्य यह सोचकर दु:खी होता है कि वह झूठ बोलकर भी सफल नहीं हो सका। असत्य भाषण से पूर्व इसलिए व्याकुल रहता है कि वह दूसरे को ठगने का संकल्प करता है। वह इसलिए भी दु:खी रहता है कि कहीं कोई उसके असत्य को जान न ले। इस प्रकार असत्य—व्यवहार का अंत दु:खदायी होता है। इसी तरह विषयों से अतृप्त होकर वह चोरी करता हुआ दु:खी और आश्रयहीन हो जाता है।