ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

अहिच्छत्र पार्श्वनाथ तीर्थ की आरती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अहिच्छत्र पार्श्वनाथ तीर्थ की आरती

111.jpg 221.jpg

Sweets 1.jpg
Sweets 1.jpg

आरति करो रे,
प्रभु पार्श्वनाथ अहिच्छत्र तीर्थ की आरति करो रे।।टेक.।।
जिनशासन के तेइसवें तीर्थंकर पार्श्वनाथ प्रभु हैं।
उनके पार्श्वनाथ बनने की कथा ग्रंथ में वर्णित है।।
आरति करो रे, आरति करो रे, आरति करो रे,
इतिहास पुरुष श्री पार्श्वनाथ की आरति करो रे।।१।।

Almonds.jpg
Almonds.jpg

वाराणसि में गर्भ जन्म, दीक्षा कल्याणक प्राप्त किया।
बालब्रह्मचारी बनकर, सांसारिक सुख का त्याग किया।।
आरति करो रे, आरति करो रे, आरति करो रे,
श्री अश्वसेन वामानंदन की आरति करो रे।।२।।

Vandana 1.jpg
Vandana 1.jpg

कमठाचर के उपसर्गों को, जहाँ प्रभू ने सहन किया।
पद्मावति धरणेंद्र ने आ, उपसर्ग दूर कर नमन किया।।
आरति करो रे, आरति करो रे, आरति करो रे,
उपसर्ग विजेता पार्श्वनाथ की आरति करो रे।।३।।

Cloves.jpg
Cloves.jpg

पार्श्वनाथ की प्रथम देशना, समवसरण में खिरी जहाँ।
उसके ही प्रतिफल में समव-सरण की रचना बनी जहाँ।।
आरति करो रे, आरति करो रे, आरति करो रे,
कैवल्यभूमि अहिच्छत्र तीर्थ की आरति करो रे।।४।।

Jal.jpg
Jal.jpg

जहाँ पात्रकेसरी मुनी से, संबंधित इतिहास बना ।
पद्मावति ने पार्श्व फणा पर, लिखकर दिया उन्हें सपना ।।
आरति करो रे, आरति करो रे, आरति करो रे,
"चंदनामती" उस तीर्थभूमि की आरति करो रे ।।५।।