ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

आंखों को रखें हमेशा स्वस्थ

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
आंखों को रखें हमेशा स्वस्थ

Eyes.jpg
Efsef.jpg
Efsef.jpg

आंखें चेहरे की खूबसूरती मे चार—चांद लगाती हौं आखें किसी भी भाव को प्रस्तुत करने में पहला कदम उठाती हैं आजकल नित बढ़ता प्रदूषण और खाद्य पदार्थों में हो रही मिलावट आंखों पर बहुत बुरा प्रभाव डालती है इसलिए आंखों की देखभाल बहुत जरूरी हो गयी है।

चेहरे पर जैसे मेकअप किया जाता है वैसे ही आंखों को भी खास मेकअप देकर खूबसूरत बनाने की कोशिश की जाती है जबकि प्राकृतिक सुन्दरता का अपना ही अलग अंदाज होता है। आंखों का भारी मेकअप उनकी चमक और रोशनी के लिएद हानिकारक भी हो सकता है इसलिए जरूरी है कि आंखों में उत्तम क्वालिटी के सौंदर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करें पर कम मात्रा में इस्तेमाल करें। रात्रि को सोने से पूर्व आंखों का मेकअप ध्यानपूर्वक हटाएं।

आंखों की चमक और रोशनी को ज्यों का त्यों बनाए रखने के लिए ज्यादा जरूरी है ऐसे आहार का सेवन जिसमें विटामिन ‘ए’ प्रचुर मात्रा में हो । मुख्यत: गाजर, खुबानी, शलजम इत्यादि में विटामिन ‘ए’ पाया जाता है जिससे आंखों की रोशनी बरकरार रहती है। सुबह उठकर पानी पीना, पूरे दिन में १३—१४ गिलास पानी—पीना आंखों के लिए हितकर होता है जो शरीर में बढ़ते हुए विषैले पदार्थों को नष्ट करता है। धूम्रपान करने पर भी आंखों को भारी नुकसान उठाना पड़ता है।

आंखों की छोटी —मोटी परेशानियां सताती ही रहती हैं जिनमें मुख्य हैं आंखों का सूजना, आंखों का थकना, आंखों का लाल होना इत्यादि। इन परेशानियों से घबराने की जरूरत नहीं है। जरूरत है , आंखों की कुछ खास देखभाल की । अगर आखें ज्यादा लाल हो जाएं तो एक चम्मच रोज नामक जड़ी बूटी थोड़े से पानी में उबालें। थोड़ी देर उबालने के बाद इस छने हुए जल से दिन में कई बार धोएं ।

आंखें सूज जाएं तो आंखों पर कच्चे आलू की फांके रखें। बार—बार इस क्रम को दोहराएं। इससे राहत मिलेगी। फिर आंखों में स्वच्छ गुलाबजल डालें जो आंखों की खूबसूरती भी बढ़ाता है और आंखों का आकर्षण बनाए रखता है। आंखों में सूजन का कारण या तो देर रात तक जागना या टकटकी लगाये कई घंटो तक किसी चीज पर नजर बांधे रहना है, इसलिए समय पर सोना जरूरी है और किसी चीज पर नजर बांधे हुए पलके झपकाते रहनर जरूरी है। टीवी और कम्प्यूटर पर लगातार नजर न लगाएं । बीच — बीच में आंखों को आराम दें।

आंखों के थका—थका महसूस होने पर आंखें बंद करके उस पर कच्चे ताजे खीरे की फांके या टमाटर का कटा हुआ हिस्सा रहना चाहिए जिससे आंखों को शीतलता मिलेगी । ताजे हरे पुदिने को पीसकर उसका रस निकाल लें। इससे आंखों को धोएं । ताजगी महसूस होगी।

जिनेन्दु अहमदाबाद,२३ नवम्बर, २०१४