Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

आई हैं आई हैं आई हैं, मां ज्ञानमती जी आई हैं

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आई हैं आई हैं आई हैं

DSC06666 (Small).JPG

आई हैं आई हैं आई हैं, मां ज्ञानमती जी आई हैं।
लाई हैं लाई हैं लाई हैं, सन्देशा ज्ञान की लाई हैं।। टेक.।।
इक ग्राम में जन्मी बाला ने, अनुपम इतिहास बनाया है।
गणिनी मां ज्ञानमती बनकर, जग में प्रकाश पैलाया है।।
छाई हैं छाई हैं छाई हैं, ये जनमानस में छाई हैं।। आई हैं......।।१।।
जो महाआत्माएं होतीं, युग में परिवर्तन करती हैं।
उनकी तप त्याग कथाएं ही, सबमें नवजीवन भरती हैं।।
पाई हैं पाई हैं पाई हैं, हमने अपनी निधि पाई हैं।। आई हैं......।।२।।
ये प्रान्त अवध का गौरव हैं, ब्राह्मी माता की प्रतिकृति हैं।
शारद माता इनकी प्रतिभा में, देख रही निज अनुकृति हैं।।
गाई है गाई है गाई है, इनकी यशगाथा गाई है।। आई हैं......।।३।।
चैतन्य ज्ञान की ज्योति, ज्ञानमति माता को हम करें नमन।
‘चन्दनामती’ पा सकते हैं, हम भी उस ज्ञान के कुछ रज कण।।
लाई हैं लाई हैं लाई हैं, ये ज्ञान का अमृत लाई हैं।। आई हैं......।।४।।

Df2.jpg