ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

आकारशुद्धि

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आकारशुद्धि
A particular kind of ritual procedure of purifying the idol of Lord Jinendra with the 113 auspicious pitchers containing water mixed with different leaf-powders & pure ashes, to be ob served in Panchkalyanak Pratishtha. पंचकल्याणक प्रतिष्ठा में जन्मकल्याणक के दिन 113 कलशांद्वारा (विभिन्न पत्तों के चूर्ण एंव भस्म आदि से सहित) प्रतिमाओं की विशेष शुद्धि हेतु की जाने वाली विधि।