ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

परम पू. ज्ञानमती माताजी के सानिध्य में सिद्धचक्र महामंडल विधान (आश्विन शुक्ला एकम से आश्विन शुक्ला नवमी तक) प्रारंभ हो गया है|

आकिंचन्य धर्म-

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आकिंचन्य धर्म
Sense of non-attachment; possessionlessness. समस्त परिग्रह का त्याग करके कुछ भी मेरा नहीं है इस प्रकार का निर्लोभ भाव रखना।