ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|

पू. ज्ञानमती माताजी के सानिध्य में सिद्धचक्र महामंडल विधान (२१ सितम्बर से २८ सितम्बर २०१७ तक) प्रारंभ हो गया है|

आक्रन्दन

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आक्रन्दन
Weeping, Wailing, Mourning, Lamentation. परिताप के कारण जो आंसू गिरने के साथ विलाप आदि होता है उससे खुलकर रोना। असाता वेदनीय कर्मों के आस्रव का कारण- पश्चताप से अश्रुपात करते हुए रोना।