ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

आचार्यश्री के उपवासों का विवरण

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
ऐतिहासिक तप: साधना-आचार्यश्री के साढ़े २५ वर्षों से भी अधिक दिन के उपवासों का विवरण

उपवासों की संख्या कितनी बार उपवास के कुल दिन
१) १६ दिन का ३ बार ४८
२) १० दिन का १ बार १०
३) ९ दिन का ६ बार ५४
४) ८ दिन का ७ बार ५६
५) ७ दिन का ६ बार ४२
६) ६ दिन का ६ बार ३६
७) ५ दिन का ६ बार ३०
८) ४ दिन का ६ बार २४
९) अंतिम ३६ दिन तक के उपवास में स्वर्गवास १ बार ३६
- - योग-३३६ दिन
व्रत नाम उपवासों की संख्या
१. चारित्रशुद्धि व्रत १२३४
२. तीस चौबीसी व्रत ७२०
३. कर्मदहन व्रत (तीन बार) ४६८
४. सिंहनिष्क्रीड़ित व्रत (तीन बार) २७०
५. सोलहकारण व्रत (१६/१६) २५६
६. श्रुतपंचमी व्रत ३६
७. विहरमान व्रत (२० तीर्थंकर व्रत) २०
८. दशलक्षण पर्व १०
९. सिद्धों के व्रत (८)
१०. अष्टाह्निका व्रत
११. गणधरों के व्रतगणधरों के १४५२ उपवास होते हैं। आचार्य श्री २०० ही कर पाये थे २००
अतिरिक्त व्रत ६३७२
- योग ९६०२