Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

आचार्य श्री शांतिसागर विधान

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आचार्य श्री शांतिसागर विधान कवर पेज

आचार्य श्री शांतिसागर विधान के विषय में
प्रकाशक दिगम्बर जैन त्रिलोक शोध संस्थान, जम्बूद्वीप-हस्तिनापुर
लेखक गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी
पुस्तक के विषय में भगवान महावीर जन्मभूमि कुण्डलपुर में वी.नि. सं. २५३०, आषाढ़ वदी छट्ठ, ८ जून २००४ में यह विधान लिखा। ‘गुरूणां गुरु’ चारित्रचक्रवर्ती आचार्यश्री शांतिसागर जी महाराज बीसवीं सदी के प्रथम आचार्य हुए हैं। पूज्य माताजी ने तीन बार इनके दर्शन किये। इनका अनुवभ ज्ञान प्राप्त किया एवं वुुंâथलगिरि सिद्धक्षेत्र पर इनकी सल्लेखना देखी है। इस विधान में २१६ अघ्र्य, १ पूर्णाघ्र्य और १ जयमाला है।
पुस्तक पढने के लिए यहाँ क्लिक करें