ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माता जी के द्वारा अागमोक्त मंगल प्रवचन एवं मुंबई चातुर्मास में हो रहे विविध कार्यक्रम के दृश्य प्रतिदिन देखे - पारस चैनल पर प्रातः 6 बजे से 7 बजे (सीधा प्रसारण)एवं रात्रि 9 से 9:20 बजे तक|
इस मंत्र की जाप्य दो दिन 18 और 19 तारीख को करे |

सोलहकारण व्रत की जाप्य - "ऊँ ह्रीं अर्हं शक्तितस्त्याग भावनायै नमः"

आजमाएं घरेलू नुस्खे: कई बीमारियों के इलाज में फायदेमंद

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजमाएं घरेलू नुस्खे: कई बीमारियों के इलाज में फायदेमंद

  • सब्जी और मसाले का उपयोग सिर्फ चटपटा खाना बनाने में नहीं, बल्कि घरेलू उपचार में भी लाभप्रद है।
  • भुने हुए जीरे को सूंघने से जुकाम में छीके आनी बंद होती है।
  • हिचकी में अदरक का टुकड़ा चूसें।
  • सूजन में राई का लेप लगाएं ।
  • सर्दियों में बादाम को रात में भिगोकर सुबह घिसकर दूध में डालकर पीने से त्वचा स्वस्थ रहती है।
  • अमरूद खाने से कब्ज में फायदा होता है।
  • रोज सुबह खाली पेट एक चम्मच आंवले का पाउडर पानी में घोलकर पीने से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित होता है।
  • गुड़ के साथ सौंफ खाने से मासिक धर्म नियंत्रित होता है।
  • रात में सोने से पहले सरसों के तेल को नाभि पर लगाने से होंठ नहीं फटते।
  • होठों का कालापन दूर करने के लिये दूध को होठो पर लगाएं।
  • खांसी में तुलसी की पत्तियों को अदरक व चाशनी के साथ चाटने पर आराम मिलता है।
  • सूक्ष्म मात्रा में भुनी हुई हींग बच्चों को देने में अंदर कृमि नष्ट हो जाते हैं।
  • मसूर की दाल पीस कर चेहरे पर लगाने से झाइयां कम हो जाती है।
  • मासिक धर्म में अगर देरी हो जाए तो काले तिलों का क्वाथ पीना चाहिए।
  • चूने का पानी पिलाने से बच्चा दांत सुगमता से निकाल लेता है।
  • आंवले के लगातार सेवन से नेत्र ज्योति बढ़ती है।
  • प्रेशर कुकर की तली में नींबू के छिलके डालने से काला नहीं पड़ता।
  • मोमबत्ती को दरवाजे व खिड़कियों पर घिसे इससे खुल बंद की परेशानी दूर हो जाएगी।
  • सूप बनाने से पहले टमाटरों को प फ्रिज में रखें जब भी उन्हें छीलना हो, उन पर गरम पानी की धार छोड़े, टमाटर का छिलका नरम पड़ जाएगा और इन्हें छीलना बहुत आसान होगा।
  • चावल बनाते वक्त उसमें कुछ बूंदे नींबू का रस डालने से चावलों का रंग एकदम सफेद हो जाता है और एक चम्मच तेल या घी डालने से चावल के दाने अलग अलग रहते हैं। परोसने से पहले गरम चावलों के बरतन का मुंह कपड़े से ढंक दें कपड़ा भारी भाप सोख लेगा और चावल के ढेले नहीं बनेंगे।
आजाद साप्ताहिक , अजमेर
२८ नवम्बर २०१४