ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

आत्मबोध :

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


आत्मबोध :

वदणियमाणि धरंता, सीलाणि तहा तवं च कुव्वंता।

परमट्ठबाहिरा जे, णिव्वाणं ते ण विदंति।।

—समयसार : १५३

भले ही व्रत, नियम को धारण करे, तप और शील का आचरण करे, किन्तु जो परमार्थ रूप आत्मबोध से शून्य है, वह कभी निर्वाण प्राप्त नहीं कर सकता।