Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


ॐ ह्रीं जन्म-तप कल्याणक प्राप्ताय श्री विमलनाथ जिनेन्द्राय नमः |

आत्मादृष्टा :

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


आत्मादृष्टा :

अहमिक्को खलु सुद्धो, दंसणणाणमइयो सदारूवी।

ण वि अत्थि मज्झ किंचि वि अण्णं परमाणुमित्तं पि।।

—समयसार : ३८

आत्मद्रष्टा विचार करता है कि—‘‘मैं तो शुद्ध ज्ञान दर्शन स्वरूप, सदा काल अमूर्त, एक शुद्ध ज्ञान दर्शन स्वरूप, सदा काल अमूर्त, एक शुद्ध शाश्वत तत्त्व हूँ। परमाणु मात्र भी अन्य द्रव्य मेरा नहीं है।’’