Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


प्रतिदिन पारस चैनल पर पू॰ श्री ज्ञानमती माताजी षट्खण्डागम ग्रंथ का सार भक्तों को अपनी सरस एवं सरल वाणी से प्रदान कर रही है|

प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें | 6 मई 2018 से प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक |

आत्मा का आनंद किनको आता है?

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
आत्मा का आनंद किनको आता है?

जायंते विरसा रसा विघटते गोष्ठीकथा कौतुकं,

शीर्यन्ते विषयास्तथा विरमति प्रीति: शरीरेपि च।
जीषं वागपि धारयत्यविरतानन्दात्म शुद्धात्मन:,

चिन्तायामपि यातुमिच्छति समं दोषैर्मन: पंचताम्।

नित्य आनन्दस्वरूप शुद्ध आत्मा का चिंतवन करने पर रस नीरस हो जाते हैं, परस्पर वार्तालापरूप कथा का कौतूहल नष्ट हो जाता है, विषय समाप्त हो जाते हैं, शरीर के विषय में भी प्रेम नहीं रहता है, वचन भी मौन को धारण कर लेते हैं तथा मन भी दोषों के साथ मृत्यु को प्राप्त करना चाहता है अर्थात् आत्मा के अनुभव आने पर ये सब विषय स्वयं समाप्त हो जाते हैं।

यह अवस्था विशेष महामुनियों के ध्यान में ही हो सकती है। विषयों में फंसे हुए गृहस्थों के कभी संभव नहीं हो सकती।