Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

आत्मा परिणमनशील है

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
आत्मा परिणमनशील है

परिणमदि जेण दव्वं तक्कालं तम्मय त्ति पण्णत्तं।

तम्हा धम्मपरिणदो आदा धम्मो मुणेयव्वो।।८।।
जिस काल द्रव्य जिन भावों से, परिणमन करे उस काल सही।
तन्मय हो जाता द्रव्य अहो! उस काल कहा उस रूप सही।।
इस हेतु धर्म से परिणत हो, आत्मा ही धर्म कहा जाता।

अग्नी से तप कर लोह पिंड, जैसे अग्नीमय हो जाता।।८।।

अर्थ-यह द्रव्य जिस काल में जिस भाव से परिणमन करता है, उस काल में उस रूप हो जाता है ऐसा श्री जिनेन्द्रदेव ने कहा है। इसलिए धर्म से परिणत हुई आत्मा को धर्मरूप जानना चाहिए अर्थात् निज शुद्ध आत्मा की परिणतिरूप निश्चय धर्म है और पंच परमेष्ठी आदि की भक्ति के परिणामरूप व्यवहार धर्म है। इन उभय धर्म से परिणत हुआ आत्मा धर्म रूप है जैसे अग्नि से संतप्त हुआ लोहे का गोला अग्निरूप ही हो जाता है।

(भगवान कुन्दकुन्द)