ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

आपके दिल की बिगड़ती सेहत के बारे में १० साल पहले बता सकता है आपका खून

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
आपके दिल की बिगडती सेहत के बारे में 1 0 काल पहले बता सकता है आपका खून

खून जांंच.jpg

वैज्ञानिको ने ऐसा तरीका ईजाद किया है, जिससे किसी के खुन के जरिए उस व्यक्ति बहे 10 साल बाद होने वाली दिल की बीमारी का पूर्वानुमान किया जा सकता है यह ऐसा तरीका है जो इस बीमारी का पूर्वानुमान जताने वाले पारम्परिक तरीको से कहीं अधिक सटीक है. जब कोई अपने डॉक्टर के पास जाता है तब वह दिल की बीमारी के खतरे को जानने के लिए क्रोलेस्ट्ररेंल और ट्राइग्लिसराइड के लिए अपने रक्त की जांच करा सकता है.

नॉरवेगियन यूनिवर्सिटी आँफ साइंस एंड टेक्नोलोजी (एनटीएनयु) के अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक, बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई), धुम्रपान की आदतों और रक्तचाप के बारे में अतिरिक्त जानकारी के साथ इसका इस्तेमाल अगले 10 साल में दिल की बीमारी से जुड़े पूर्वानुमान को जानने के लिए किया जा सकता है

अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि कई ऐसे पूर्वानुमान गडक मौजूद हैं जो इसके खतरों के बारे में बता सकते है. एनटीएनयू से एंजा बाय ने बताया, अध्ययन यह दिखाता है कि पाच अलग अलग सूक्ष्म आरएनए (राइबोन्यूस्तिक एनिड) के संयोजन को मापने और इस जानकारी को दिल की बीमारी से जुड़े पारस्परिक खतरों में जोड़ने से हम उन बातो का भी पता लगा सकते है जिससे हृदयाघात के बारे में पहले से सटीक पूर्वानुमान की पहचान की जा सकती है. यह अनुसंधान माँलेक्यूलर एड सेलुलर कार्डिंयोलॉजी पविका में प्रकाशित हुआ.