आया वर्षायोग महान, करो गुरुभक्ती करो

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आया वर्षायोग महान


तर्ज-महावुंभ का पर्व महान, चलो रहे प्रयाग चलो.......

आया वर्षायोग महान, करो गुरुभक्ती करो।
करो गुरुभक्ती करो, करो गुरुभक्ती करो,
इनसे पाना है सच्चा ज्ञान, करो गुरुभक्ती करो।।आया।। टेक.।।

वर्षा ऋतू का मौसम है आया, भक्तों ने गुरुओं का सान्निध्य पाया।
दो भक्ती से आहारदान, करो गुरुभक्ती करो।।आया....।।१।।

श्री शांतिसागर का सुमिरन कर लो, प्रथमाचार्य का वंदन कर लो।
सब उनका ही है वरदान, करो गुरुभक्ती करो।।आया....।।२।।

मुनि आर्यिकाओं के प्रवचन सुनना, ‘चन्दनामती’ ज्ञान भण्डार भरना।
सब गुरुओं का करो सम्मान, करो गुरुभक्ती करो।।आया....।।३।।