ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

आयुर्वेद शास्त्र के अनुरूप मसालों का प्रयोग करें

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
आयुर्वेद शास्त्र के अनुरूप मसालों का प्रयोग करें

Efsef.jpg
Efsef.jpg
Efsef.jpg
Efsef.jpg

आयुर्वेद शास्त्रा के अनुसार इस संसार में कोई भी ऐसी वस्तु नहीं है जिसका प्रयोग स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने में नहीं किया जा सकता। वनस्पति जगत, प्राणी जगत और खनिज से प्राप्त होने वाले द्रव्यों का शरीर पर होने वाले द्रव्यों का शरीर पर होने वाले गुण—दोषों का अध्ययन करके विभिन्न प्रकार के बलवद्र्धक, स्वास्थ्य रक्षक, रोग प्रतिरोधक, रूचिकर, पथ्यकर आदि के रूप में व्यवहार किया जा सकता है।

मसालों का व्यवहार खाद्य पदार्थों में सिर्फ स्वाद एवं रंग के परिवर्तन के निमित्त ही नहीं किया जाता बल्कि उनमें अनेक औषधीय गुण भी विद्यमान होते हैं। कुछ प्रमुख मसालों में छिपे औषधीय गुणों की चर्चा यहां की जा रही है।

Dhaniya.jpg

धनिया :— आयुर्वेद के अनुसार धनिया मूत्रल, पाचन, दीपन व तृष्णा शामक गुणों से युक्त होता है। इसका प्रयोग अर्जीर्ण, उल्टी रोकने, अतिसार रोकने, ज्वर दाह एवं तृष्णा को रोक कर शान्ति प्रदान करने के लिए किया जाता है। मिश्री के साथ धनिए के चूर्ण को खाने से खूनी बवासीर में लाभ होता है। धनिया का पानी श्वेतप्रदर, स्वप्नदोष में लाभकारी होता है।

Haldi.jpg

हल्दी:— आयुर्वेदाचार्यों ने हल्दी को रक्ताशोधक,शोथहर, कफहर, वातहर, विषध्न, व्रण रोपक, त्वचा दोषहर गुणों से युक्त माना है। इसके प्रयोग से चर्मरोग, रक्तविकार, यकृत विकार, प्रतिशयाय, सर्दी ,खांसी, प्रमेह, प्रदर रोग, अतिसार, संग्रहणी आदि में अत्यंत लाभ होता है। हल्दी में चूना मिलाकर लेप लगाने से पैरों की ऐंठन, सूजन, चोट, घाव, आदि में लाभ होता है। सांप एवं बिच्छू के दंश की वेदन को दूर करने के लिए हल्दी का धुआं लगाया जाता है। दूध में हल्दी के पाउडर को मिलाकर पिलाने से कफ विकार दूर होता है साथ ही अन्दरूनी चोट के दर्द को भी आराम मिलता है।

Jeera.jpg

जीरा:— इसके सेवन से भूख बढ़ती है और पेशाब साफ होता है और पेशाब साफ होता है। यह पाचन शक्ति को बढ़ाने वाला, वायु को निकालने वाला, उदर शूल को कम करके पतले दस्त को रोकने की गुणों से युक्त होता है। जीरा सुजाक, पथरी तथा मूत्रावरोध दोष नाशक होता है तथा गुड़ के साथ मिलाकर प्रयोग करने से पाचन क्रिया को सुधारता है। घी के साथ जीरे को मिलाकर लेने से हिचकी रूकती है तथा नींबू के साथ मिलाकर सेवन करने से स्त्रियों का वमन (गर्भवती की उल्टी) को रोकता है। प्रसूतावस्था में जीरे का उपयोग करने से दूध बढ़ता है तथा दही के साथ मिलाकर लेने से अतिसार एवं अनपच में लाभकर होता है।

Methi.jpg

मेथी:— आयुर्वेद के अनुसार मेथी दुग्धवद्र्धक, शोथहर, गर्भाश्य संकोचक, भग (योनि) संकोचक, वातहर, मधुमेहहर आदि गुणों से युक्त होता है। खसरा (मसूरिका) तथा रक्तातिसार में मेथी को भूनकर फक्की के रूप में उपयोग करने से प्रसूता की भूख बढ़ती है। मधुमेह में मेथी के बीज का चूर्ण सेवन करने से लाभ होता है। त्वचा को मुलायम रखने के लिए मेथी को पीसकर लगाया जाता है। मेथी का उपयोग गलगण्ड, बच्चों के सूखा रोग, वातरक्त आदि को रोकने में भी किया जाता है।

मेथी को कामशक्तिवद्र्धक भी माना जाता है। सेक्सगत कमजोरी में मेथी का लड्डू खिलाया जाता है।

Kali mirch.jpg

कालीमिर्च:— इसका काढ़ा बनाकर कुल्ली करने से दांत दर्द ठीक हो जाता है। बिना पके हुए फोड़े, फुन्सियों पर मरीज को पीसकर लेप लगा देने से वे बैठ जाते हैं। नमक और मिर्च को पीसकर लगाने से सिर दर्द ठीक हो जाता है। इसका उत्तेजक प्रभाव मूत्र संस्थान पर पड़ता है जिससे मूत्र की मात्रा बढ़ जाती है। इसका उपयोग पेट के फूलने, प्रवाहिका, अपचन तथा आमाशय की शिथिलता को दूर करने के लिए किया जाता है। मधु या घी के साथ इसके चूर्ण को मिलाकर सेवन करने से खांसी में लाभ होता है। मरीच से सिद्ध किया हुआ तेल त्वचा के विकार को नष्ट करता है तथा आमवात, गठिया, एवं खुजली को भी दूर करता है।

Tej patta.jpg

तेजपत्ता:— आयुर्वेद के अनुसार तेजपत्ता: तेजपत्राऋ में स्वेदजनन, वातहर एवं उत्तेजक गुण विद्यमान होते हैं। गर्भाशय की शिथिलता को दूर कर गर्भाधान में सहायक एवं गर्भस्राव को रोकने के गुणों से यह युक्त होता है। वात कफनाशक होने से इसके प्रयोग से मधुमेह में लाभ होता है तथा उदरशूल, पाचन विकार, अतिसार आदि विकारों में भी लाभदायक होता है। तेजपत्ता के चूर्ण को घी के साथ भूनकर मलाई में मिलाकर नित्य खाने से संकुचित योनि दोष दूर होता है। तेजपत्ता में अनेक मूत्राविकारों को दूर करने की अनुपम शक्ति होती है।

जिनेन्दु
३० नवम्बर, २०१४