Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

आरती संग्रह

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आरती संग्रह-( १ नं. से २१ नं. तक )


यह विधि मंगल आरति कीजे-आरती नं १

ओम जय चंद्र प्रभु देवा -आरती नं २

ओम जय महावीर प्रभो -आरती नं ३

ओम पारस देवा -आरती नं ४

ओम जय सिद्ध चक्र देवा -आरती नं ५

आरती श्री पदम तुम्हारी -आरती नं ६

ओम जय श्री शांति प्रभो -आरती नं ७

भक्ति भाव लेकर-आरती नं ८

करते हैं प्रभु की आरती -आरती नं ९

जय जय महावीर जय जय महावीर-आरती नं १०

जयति जय जय आदि जिनवर-आरती नं ११

ओम जय जम्बूदीप जिनम -आरती नं १२

मै तो आरति उतारूँ रे-आरती नं १३

मै तो आरती उतारूँ रे कैलाश गिरिवर की ...-आरती नं १४

प्रभु आरति करने से सब आरत टलते हैं...-आरती नं १५

भगवान चन्द्रप्रभु की आरती -आरती नं १६

ए़ही विधि मंगल -आरती नं १7

चौबीस दीपों की थाल आरती -आरती नं १8

जय चंद्रा प्रभु देव आरती -आरती नं 19

आरती शांति तुम्हारी -आरती नं २0

जय जिन राजा आरती -आरती नं २1