ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

आर्य

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आर्य
Noble persons, Son of 'Pavanveg Vidyadhar' resident of Haripur at Vijayardha mountain. मनुष्य की दो जातियों (आर्य, म्लेच्छ) में एक जाति जो स्वयं गुणवान हैं या गुणवानों के द्वारा मान्य है भोग भूमि में जन्म लेने वाले पुरूष को आर्य व स्त्री को आर्य शब्द से जाना जाता है। विजयार्थ पर हरिपुर निवासी पवनवेग विद्याधर का पुत्र।