Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

आर्यिकारत्न श्री अभयमती माताजी की आरती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


आर्यिकारत्न श्री अभयमती माताजी की आरती

लेखिका - ब्र कु॰ : इन्दु जैन (संघस्थ)
अभयमती माताजी की हम करें आरती आज.

रत्नमयी दीपक ले आए शरणा तेरी आज ।।
हो माता हम सब उतारें तेरी आरती - 2 ।। टेक. ।।

पितु श्री छोटेलाल मोहिनी माँ से जन्म लिया है.
ज्ञानमती माता सम भगिनी. का वात्सल्य मिला है ।
माता.................।।1।।
गणिनीप्रमुख ज्ञानमती माताजी के पाकर दर्शन
मिली प्रेरणा त्याग मार्ग की ओर बढ़ाया जीवन ।
माता.................।।2।।
उत्रिस सौ चौंसठ में माताजी से पाकर दीक्षा.
बनी ' क्षुल्लिका अभयमती. देती जन-जन को शिक्षा ।
माता.................।।3।।
उविस सौ उन्हत्तर में श्री महावीर जी तीरथ.
धर्मसिंधु से बनीं आर्यिका. फैलाई जिन कीरत ।
माता.................।।4।।
कुछ दिन गुरा संग रहीं. पुन: चल दी बुन्देलखण्ड की
सार्थक कर निज नाम. दिखाया नई दिशा फिर सबको ।
माता......................।।5।।
ग्रंथ रचयित्री. चारित्र में दृढ. हे चारित्र श्रमणि माँ.
मुक्ति सुपथ की आश लेकर, 'इन्दु' नमे तुम चरणा । ।
माता.................।।6।।