वीर निर्वाण संवत 2544 सभी के लिए मंगलमयी हो - इन्साइक्लोपीडिया टीम

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


22 अक्टूबर को मुंबई महानगर पोदनपुर से पू॰ गणिनी ज्ञानमती माताजी का मंगल विहार मांगीतुंगी की ओर हो रहा है|

आवली का प्रमाण

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आवली का प्रमाण

अर्थासंदृष्टि के अनुसार आवली का चिह्न २ ( दो ) है जघन्य युक्तासंख्यात प्रमाण समयों की एक आवली होती है| जघन्य युक्तासंख्यात और आवली समान है अर्थात् एक आवली में जघन्य
युक्तासंख्यात प्रमाण समय होते हैं| जघन्य युक्तासंख्यात का प्रमाण - जघन्य परितासंख्यात का विरलन करके अर्थात् जघन्य परितासंख्यात प्रमाण एक-एक स्थापित करके प्रत्येक एक के अंक के ऊपर जघन्य परितासंख्यात को देकर सब परितासंख्यातोंको परस्पर गुणा करने पर जघन्य युक्तासंख्यात का प्रमाण आता है|
जघन्य परितासंख्यात का प्रमाण १६ (सोलह) है| यथार्थ में जघन्य परितासंख्यात का प्रमाण असंख्यात समय हैं उसकी संदृष्टि १६ ( सोलह )है|

विरलन करने की विधि -

१६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६

१ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १