ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

आवली का प्रमाण

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
आवली का प्रमाण

अर्थासंदृष्टि के अनुसार आवली का चिह्न २ ( दो ) है जघन्य युक्तासंख्यात प्रमाण समयों की एक आवली होती है| जघन्य युक्तासंख्यात और आवली समान है अर्थात् एक आवली में जघन्य
युक्तासंख्यात प्रमाण समय होते हैं| जघन्य युक्तासंख्यात का प्रमाण - जघन्य परितासंख्यात का विरलन करके अर्थात् जघन्य परितासंख्यात प्रमाण एक-एक स्थापित करके प्रत्येक एक के अंक के ऊपर जघन्य परितासंख्यात को देकर सब परितासंख्यातोंको परस्पर गुणा करने पर जघन्य युक्तासंख्यात का प्रमाण आता है|
जघन्य परितासंख्यात का प्रमाण १६ (सोलह) है| यथार्थ में जघन्य परितासंख्यात का प्रमाण असंख्यात समय हैं उसकी संदृष्टि १६ ( सोलह )है|

[सम्पादन]
विरलन करने की विधि -

१६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६

१ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १