Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

आवली का प्रमाण

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आवली का प्रमाण

अर्थासंदृष्टि के अनुसार आवली का चिह्न २ ( दो ) है जघन्य युक्तासंख्यात प्रमाण समयों की एक आवली होती है| जघन्य युक्तासंख्यात और आवली समान है अर्थात् एक आवली में जघन्य
युक्तासंख्यात प्रमाण समय होते हैं| जघन्य युक्तासंख्यात का प्रमाण - जघन्य परितासंख्यात का विरलन करके अर्थात् जघन्य परितासंख्यात प्रमाण एक-एक स्थापित करके प्रत्येक एक के अंक के ऊपर जघन्य परितासंख्यात को देकर सब परितासंख्यातोंको परस्पर गुणा करने पर जघन्य युक्तासंख्यात का प्रमाण आता है|
जघन्य परितासंख्यात का प्रमाण १६ (सोलह) है| यथार्थ में जघन्य परितासंख्यात का प्रमाण असंख्यात समय हैं उसकी संदृष्टि १६ ( सोलह )है|

विरलन करने की विधि -

१६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६ १६

१ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १ १