ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

प्रथामाचार्य श्री शांतिसागर महाराज की 62 वीं पुण्यतिथि (श्रावण शुक्ला दुतिया) 23 अगस्त को मुंबई के जैनम हाल में पूज्य गणिनी ज्ञानमती माता जी के सानिध्य में मनायी जाएगी जैन धर्मावलंबी अपने-अपने नगरों में विशेष रूप से इस पुण्यतिथि को मनाकर सातिशय पुण्य का बंध करें|
Graphics-candles-479656.gif

इस मंत्र की जाप्य दो दिन 22 और 23 तारीख को करे |

सोलहकारण व्रत की जाप्य - "ऊँ ह्रीं अर्हं साधुसमाधि भावनायै नमः"

आसिका

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसिका
A particular activity of a saint-taking permission from deities, householders etc. for passing through the way etc. मुनियों के आचार या समाचार का एक भेद, ठहरने की जगह से निकलते हुये देवता ग्रहस्थ आदि से पूछकर गमन करना अथवा पाप क्रियाओं से मन को रोकना।