Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

आहार देते समय ध्यान रखने योग्य बातें

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आहार देते समय ध्यान रखने योग्य बातें

  1. चौके का स्थान शुद्ध हो, प्रकाश पर्याप्त मात्रा में हो।
  2. जल दोहरे मोटे छन्ने से छना हो तथा उबाल कर रखें।
  3. शुद्ध सोले के कपड़े से भोजन बनायें।
  4. नाखून बड़े न हों, बाल खुले न हों, सिर ढका हो।
  5. फल—सब्जी आदि को प्रासुक जल से धोकर काम में लें।
  6. आहार सम्बन्धि कार्य सूर्योदय के ४८ मिनट के बाद प्रारंभ होता है।
  7. आहार देने से पूर्व दाता प्रथम हाथ जोड़कर मनशुद्धि, वचनशुद्धि, कायशुद्धि, आहार-जल शुद्ध है, ऐसा बोलकर नमस्कार करें पुन: प्रासुक जल से हाथ धोकर स्वच्छ कपडे से हाथ पोंछ लें तभी आहार देना चाहिए।
  8. पदार्थ देते समय देख लें कि कही वह पदार्थ अतिगर्म अथवा अतिशीतल तो नहीं है।
  9. चौके में प्रयुक्त बर्तन से स्टीकर आदि हटा देना चाहिए।
  10. उपवास या अन्तराय के बाद पारणां के दिन साधु को जितना सहन हो सके उतना गर्म पानी, उकाली, दूध आदि लाभदायक होता है। ठण्डा जल, शिकंजी आदि नहीं।
  11. चौके में शुद्धता का ध्यान रखें। पानी आदि न फैलायें।