ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

आहार देते समय ध्यान रखने योग्य बातें

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
आहार देते समय ध्यान रखने योग्य बातें

Ctp10.jpg
Ctp10.jpg
  1. चौके का स्थान शुद्ध हो, प्रकाश पर्याप्त मात्रा में हो।
  2. जल दोहरे मोटे छन्ने से छना हो तथा उबाल कर रखें।
  3. शुद्ध सोले के कपड़े से भोजन बनायें।
  4. नाखून बड़े न हों, बाल खुले न हों, सिर ढका हो।
  5. फल—सब्जी आदि को प्रासुक जल से धोकर काम में लें।
  6. आहार सम्बन्धि कार्य सूर्योदय के ४८ मिनट के बाद प्रारंभ होता है।
  7. आहार देने से पूर्व दाता प्रथम हाथ जोड़कर मनशुद्धि, वचनशुद्धि, कायशुद्धि, आहार-जल शुद्ध है, ऐसा बोलकर नमस्कार करें पुन: प्रासुक जल से हाथ धोकर स्वच्छ कपडे से हाथ पोंछ लें तभी आहार देना चाहिए।
  8. पदार्थ देते समय देख लें कि कही वह पदार्थ अतिगर्म अथवा अतिशीतल तो नहीं है।
  9. चौके में प्रयुक्त बर्तन से स्टीकर आदि हटा देना चाहिए।
  10. उपवास या अन्तराय के बाद पारणां के दिन साधु को जितना सहन हो सके उतना गर्म पानी, उकाली, दूध आदि लाभदायक होता है। ठण्डा जल, शिकंजी आदि नहीं।
  11. चौके में शुद्धता का ध्यान रखें। पानी आदि न फैलायें।