Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


प्रतिदिन पारस चैनल पर पू॰ श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार भक्तों को अपनी सरस एवं सरल वाणी से प्रदान कर रही है|

प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें | 6 मई 2018 से प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक |

इन्द्रिय का लक्षण

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
DSC07111.JPG

संसारी जीव की पहचान के चिन्ह को इन्द्रिय कहते हैं।

इन्द्रिय के पाँच भेद हैं-स्पर्शन, रसना, घ्राण, चक्षु और कर्ण।
जिससे छू जाने पर हल्का, भारी, ठंडा आदि का ज्ञान होता है, उसे स्पर्शन इन्द्रिय कहते हैं।
जिससे खट्टा, मीठा, कडुआ, चटपटा व कषायला रस जाना जाता है, उसे रसना इन्द्रिय कहते हैं।
जिससे सुगन्ध और दुर्गन्ध का ज्ञान होता है, उसे घ्राण इन्द्रिय कहते हैं।
जिससे काला, पीला, नीला, लाल, सपेâद रंग जाना जाता है, उसे चक्षु इन्द्रिय कहते हैं।
जिससे मनुष्य, पशु, पक्षी, बादल, बाजे आदि की आवाज जानी जाती है, उसे कर्ण इन्द्रिय कहते हैं।
शिष्य-हमारे कितनी इन्द्रियाँ हैं?
गुरूजी-हमारे और आपके पाँचों इन्द्रियाँ हैं क्योंकि हम लोग छूकर वस्तुओं को जानते हैं, चखकर रसों का, सूँघकर फलों का, देखकर चित्रों का और सुनकर शब्दों का ज्ञान कर लेते हैं।