Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|

प्रतिदिन पारस चैनल पर 6.00 बजे सुबह देखें पूज्य गणिनी प्रमुख आर्यिका श्री ज्ञानमती माताजी के लाइव प्रवचन

पूज्य गणिनी ज्ञानमती माताजी ससंघ पोदनपुर बोरीवली में विराजमान है।

इन्हें जाने

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन्हें जाने

नय के भेद

प्रतिदिन देव—दर्शन अथवा जिन मंदिर में दर्शन के लिये जाना जैनियों का प्रथम क है कर्तव्य। आइए जिनदर्शन के द्वारा नय के भेदों को जानें —

नय के सात भेद हैं —

१. नैगमनय — जिनमंदिर जाने का संकल्प करना

२. संग्रहनय — मंदिर जाने के लिये सामग्री एकत्र करना

३. व्यवहारनय — घर से मंदिर के लिये गमन करना

४. ऋजुसूत्रनय — मंदिर के सम्मुख पहुंचना

५. शब्द नय — मंदिर में जाकर घण्टा बजाना

६. एवंभूतनय — भगवान के गुणों का स्मरण करते हुए एकाग्र हो जाना

नय के तीन भेद और भी हैं—

१. शब्द नय — ‘मंदिर’ शब्द को ग्रहण करना

२. अर्थ नय — मंदिर में जिन प्रतिमा के दर्शन करना

३. ज्ञान नय — ज्ञान में मंदिर की आकृति का आना । नैगम नय में ज्ञान की प्रधानता है। संग्रहनय, व्यवहारनय एवम् ऋजुसूत्रनय में अर्थ की प्रधानता है। शब्द, समभिरूढ़, एवं भूत नय में शब्द की प्रधानता है।