ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

परम पू. ज्ञानमती माताजी के सानिध्य में सिद्धचक्र महामंडल विधान (आश्विन शुक्ला एकम से आश्विन शुक्ला नवमी तक) प्रारंभ हो गया है|

इन्हें भी आजमाइये

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन्हें भी आजमाइये

चीनी के डिब्बे से चीटियों को दूर रखने के लिए उसमें दो इलायची डाल दें।

लिफाफे के चिपक जाने पर गोंद लगे हिस्से में पानी लगाकर कुछ देर रखें, लिफाफा खुल जाएगा।

सूजी को बिना तेल या घी डाले हलका सुनहरा होने तक तलें, उसमें कीड़े नहीं पड़ेगे।

दही जमाते समय नींबू के रस की दो बूंदें डालने पर वह जल्दी और गाढ़ा जमेगा।

घर पर पनीर बनाएं तो उसके बचे पानी को न फेके । उससे आटा गूँथकर रोटी या परांठा बनाने पर अतिरिक्त पौष्टिकता प्राप्त होगी।

घी बनाते समय मक्खन में पानी के कुछ छींटें डालने पर घी दानेदार बनेगा।

थोड़े से नारियल या जैतून के तेल में आधे नीबू का रस निचोड़कर रात को बालों की जड़ों में पोरों से लगाएं और सुबह शैंपू कर लें। बाल हल्के हो जाएंगे।

सब्जियां अच्छी तरह रगड़कर साफ पानी से धो लें और काट कर तुरंत छोंक लें। इससे सब्जी के पोष्टिक तत्व बने रहेंगे।

भिंडी को कुछ दिनों तक ताजा रखने के लिए उन्हें धो—पोंछकर दोनों छोर काटकर प्लास्टिक की थैली में बंद करें और फ्रिज में रखें।

अगर घर पर फ्रिज न हो तो गरमी के मौसम में परात में पानी भरकर उसमें दूध का भगोना रखें। दूध जल्दी नहीं फटेगा।

तेज गरमी में नींबू को सूखने से बचाने के लिए मोमबत्ती से उसके ऊपर मोम लगा दें। वे काफी दिनों तक सुरक्षित रहेंगे।

पूड़ियों को खस्ता बनाने के लिए आलू या अरबी उबालकर मथ कर डालें।

आजाद साप्ताहिक, अजमेर