Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


२७ अप्रैल से २९ अप्रैल तक ऋषभदेवपुरम् मांगीतुंगी सिद्धक्षेत्र में लघु पंचकल्याणक प्रतिष्ठा आयोजित की गई है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से प्रतिदिन पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

उत्तम त्याग

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उत्तम त्याग

DSC 1614.JPG
उत्तम त्याग कहा जग में, जो त्यागे विषय कषायों को।

शुभ दान चार विध के देवें, उत्तम आदि त्रय पात्रों को।।
आहार सुऔषधि ज्ञान दान, और अभय दान उत्तम सबमें।
नृप वज्रजंघ और श्रीमती, आहार दान से पूज्य बने।।१।।

नृप वृषभ हुए श्रीमती तभी श्रेयांस हुए जग में वंदित।
श्रीकृष्ण मुनि को औषधि दे, तीर्थंकर होंगे पुण्य सहित।।
ग्वाला भी शास्त्र दान फल से, कौंडेस मुनि श्रुतपूर्ण हुआ।
मुनि को दे सूकर अभयदान, लड़कर मरकर सुर शीघ्र हुआ।।२।।

रत्नों की वर्षा पुष्प वृष्टि, अनहद बाजे वायु सुरभित।
जयजयकारा ये पाँच कहें, आश्चर्य वृष्टि सुरगण निर्मित।।
पंचाश्चर्यों की वर्षा बस, आहार दान में ही होती।
भद्रों को मिलती भोग भूमि, समकित को सुर शिव गति होती।।३।।

पात्रों का दान सुफल देता, कुपात्रों का कुत्सित फल है।
हो दान अपात्रों का निष्फल, ये चारों दान महा फल हैं।।।
थोड़े में भी थोड़ा दीजे, बहु धन की इच्छा मत करिये।
इच्छा की पूर्ति नहीं होगी, सागर में कितना जल भरिये।।४।।

यह सब व्यवहार त्याग माना, निश्चय से आत्मा सिद्ध सदृश।
सब त्याग ग्रहण से रहित सदा, टाँकी से उकेरी मूर्ति सदृश।।
सम्पूर्ण विभावों को तजकर, गुणपुँज अमल निज को ध्याऊँ।
बस ज्ञायक भाव हमारा है, उसमें ही तन्मय हो जाऊँ।।५।।