ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

उत्पाद—व्यय—ध्रौव्य :

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


उत्पाद—व्यय—ध्रौव्य :

न भवो भंगविहीनो, भंगो वा नास्ति सम्भवविहीन:।

उत्पादोऽपि च भंगो, न विना ध्रौव्येणार्थेन।।

—समणसुत्त : ६६३

उत्पाद व्यय के बिना नहीं होता और व्यय उत्पाद के बिना नहीं होता। इसी प्रकार उत्पाद और व्यय दोनों त्रिकाल स्थायी ध्रौव्य अर्थ (आधार) के बिना नहीं होते।

उत्पादस्थितिभंगा, विद्यन्ते पर्यायेषु पर्याया:।

द्रव्यं हि सन्ति नियतं, तस्माद् द्रव्यं भवति सर्वम्।।

—समणसुत्त : ६६४

उत्पाद, व्यय और ध्रौव्य (उत्पत्ति, विनाश और स्थिति) ये तीनों द्रव्य में नहीं होते, अपितु द्रव्य की नित्य परिवर्तनशील पर्यायों में होते हैं। परन्तु पर्यायों का समूह द्रव्य है, अत: सब द्रव्य ही हैं।

समवेतं खलु द्रव्यं, सम्भवस्थितिनाशसंज्ञितार्थै:।

एकस्मिन् चैव समये, तस्माद् द्रव्यं खलु तत् त्रितयम्।।

—समणसुत्त : ६६५

द्रव्य एक ही समय में उत्पाद, व्यय व ध्रौव्य नामक अर्थो के साथ समवेत–एकमेक है। इसलिए तीनों वास्तव में द्रव्य हैं।