ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

ऊनी कपड़े की सुरक्षा ऐसे करें

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
ऊनी कपड़े की सुरक्षा ऐसे करें

ROSE-BORDER-11668791 l-72.jpg
ROSE-BORDER-11668791 l-72.jpg

ऊनी कपड़ों से सिकुड़ने हटाने के लिए उन्हें कुछ देर भाप पर रखिये, फिर फर्श पर फैला दीजिए।

ऊनी कपड़ों को धोते समय पानी में एक चम्मच ग्लिसरीन डान दें, इससे कपड़े सिकुडते नहीं है।

सूती रेशमी और ऊनी सभी तरह के कपड़ों को सीलन से बचाने के लिये कपड़ों की अलमारियों में यूक्लिप्टस के सूखे फूल रखें।

ऊनी कपड़ों के साथ एक छोटी—सी पोटली में कपूर बांध कर रख दें। इससे कीड़े नहीं लगेंगे।

स्वेटरों को सूटकेस में रखते समय उन्हें रोल बनाकर रखे, इससे जगह भी कम घिरेगी और स्वेटर में सलवटे भी नहीं पड़ेगी।

ऊनी कपड़ों को सीलन से बचाने के लिए उन पर फिटकरी छिडकें।

एक कप शुद्ध पेट्रोल तीन लीटर पानी में डाल दें, उसमें कंबल भिगो दे। अच्छी तरह उलट—पलट कर उसके दाग—धब्बे रगड दे। दस मिनट बाद कड़ी धूप में सूखने के लिए फैला दें।