ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

ऋषभदेव गिरि तीर्थ से आमंत्रण आया है

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
ऋषभदेव गिरि तीर्थ से आमंत्रण आया है ....


'भजन '

108 Ft Bhagwan .jpg

तर्ज-चाँदनपुर के गाँव में..........

 ऋषभदेव गिरि तीर्थ से आमंत्रण आया है ,हम सब मांगीतुंगी जाएँगे |
मांगीतुंगी जाएँगे, स्वर्णिम इतिहास बनाएँगे || मांगीतुंगी......||टेक ||
      विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा ,पर्वत पर वह प्रगट हुई |
      ऋषभदेव भगवान की इक सौ अठफ़ुट प्रतिमा राज रही |
      उसी के दर्शन करने का अब अवसर आया है हमसब मागीतुंगी जाएँगे ||१||
विश्वविभूति ज्ञानमती , माताजी की यह महिमा है |
सन् उन्नीस सौ छियानवे के , चर्तुमास की गरिमा है ||२||
उनकी ही प्रेंरणा का प्रतिफल सम्मुख आया है, हमसब मागीतुंगी जाएँगे ||२||
        विश्व के आश्चर्यों में यह आश्चर्य प्रथम बन जाएगा|
        सारा जग इस वीतराग प्रतिमा को शीश नमाएगा||
पंचमकाल में पहला स्वर्णिम अवसर आया है , हमसब मागीतुंगी जाएँगे ||३||
       सभी दिगंबर जैनो ने अपनी अर्थान्जली दी इसमें|
       तभी चंदनामती आज प्रतिमा प्रगटी है पर्वत में||
 अब रवीन्द्रकीर्ति स्वामी ने सबको बुलाया है , हमसब मागीतुंगी जाएँगे ||4||
     
 Graphics-flowers-307827.gif